कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व विधायक के अंतिम दर्शन को जुटी भीड़

 कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व विधायक के अंतिम दर्शन को जुटी भीड़

----- भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी तथा यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा के थे करीबी

----- दो बार जहानाबाद विधानसभा से रह चुके विधायक


गिरिराज शुक्ला

बिंदकी फतेहपुर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एडवोकेट पूर्व विधायक लगभग 90 वर्षीय प्रेम दत्त तिवारी के अंतिम दर्शन को लेकर हजारों लोगों की भीड़ जुटी कारागार राज्यमंत्री सहित तमाम लोगों ने पार्थिव शरीर को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। नगर के प्रमुख मार्गों में पूर्व विधायक की अंतिम यात्रा निकली जिसमें नगर क्षेत्र के तमाम लोग मौजूद रहे

       नगर के मोहल्ला पैगंबरपुर निवासी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पूर्व विधायक एडवोकेट 90 वर्षीय प्रेम दत्त तिवारी का पिछले कई दिनों से लखनऊ के पीजीआई हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था इलाज के दौरान शनिवार को उनका निधन हो गया उनके निधन की खबर सुनते ही नगर क्षेत्र और जनपद में शोक की लहर छा गई कांग्रे सहित सभी दलों के नेता जनप्रतिनिधि और राजनीतिक संगठन के लोगों ने पूर्व विधायक के निधन पर शोक जताया वहीं रविवार की सुबह वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व विधायक एडवोकेट प्रेम दत्त तिवारी का पार्थिव शरीर उनके निज निवास मोहल्ला पैगंबरपुर आया तो लोगों की भारी भीड़ एकत्र होने लगी अंतिम दर्शन के लिए हजारों लोगों की भीड़ हो गई कारागार राज्यमंत्री जय कुमार सिंह बीजेपी के विधायक कृष्णा पासवान कांग्रेश पार्टी के प्रदेश सचिव व पूर्व सांसद राकेश सचान पूर्व मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक पूर्व मंत्री राजेंद्र सिंह पटेल बीजेपी जिला अध्यक्ष आशीष मिश्रा पूर्व विधायक आदित्य पांडे  कांग्रेस पार्टी के जिला अध्यक्ष अखिलेश पांडे बीजेपी के पूर्व जिला अध्यक्ष रमाकांत त्रिपाठी बीजेपी नेता बलराम सिंह चौहान कांग्रेस नेता विनोद द्विवेदी विवेक मिश्रा नगर पालिका परिषद के चेयरमैन मुन्ना लाल सोनकर नगर पालिका परिषद के पूर्व चेयरमैन अरविंद कुमार गुप्ता नगर पालिका परिषद बिंदकी के सभासद रामजी गुप्ता जिला पंचायत सदस्य नरेंद्र सिंह सहित हजारों लोगों की ने पूर्व विधायक के पार्थिव शरीर के दर्शन कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए। उनकी अंतिम यात्रा उनके निज निवास मोहल्ला पैगंबरपुर से प्रारंभ हुई जहां से यात्रा बिंदकी कस्बे के दयानंद इंटर कॉलेज परिसर में पहुंची जहां पर प्रबंधक वेद प्रकाश गुप्ता तथा प्रधानाचार्य ओम प्रकाश बाजपेई ने अपने शिक्षकों के साथ श्रद्धांजलि अर्पित किया बताते चलें कि पूर्व विधायक प्रेम दत्त तिवारी इंटर कॉलेज के प्रबंधक भी रह चुके हैं इसके उपरांत उनकी अंतिम यात्रा दयानंद इंटर कॉलेज से ललौली चौराहा होते हुए तहसील रोड गांधी चौराहा बजाजा गली फाटक बाजार मेन बाजार खजुहा चौराहा मोहल्ला बजरिया कटरा होते हुए खजुहा रोड नहर पुल के समीप पहुंची जहां पर उनका पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन हो गया उनके निधन पर नगर और क्षेत्र के लोगों में माहौल गमगीन था बताते चलें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक प्रेम दत्त तिवारी फतेहपुर जनपद के जहानाबाद विधानसभा से वर्ष 1974 तथा वर्ष 1970 में कांग्रेस पार्टी से विधायक रह चुके हैं भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी तथा उत्तर प्रदेश के भूतपूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा के करीबी माने जाते थे वह आजीवन कांग्रेस पार्टी के सदस्य रहे और कांग्रेश पार्टी में उनका एक अलग महत्व रहा। इस मौके पर कारागार राज्य मंत्री जय कुमार सिंह ने कहा कि पूर्व विधायक प्रेम दत्त के निधन से अपूरणीय क्षति हुई है उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा शवदाह के दौरान उनको गॉड ऑफ ऑनर देकर अंतिम सलामी दी गई इस दौरान बिंदकी एसडीएम प्रियंका क्षेत्राधिकारी के अलावा काफी पुलिस बल मौजूद था

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र