बुजुर्गों को तनाव मुक्त करने का प्रयास "सुकून" - एक शाम हमारे बुजुर्गो के नाम

 *पहल: गोल्डेन डेज ने बुजुर्गों में बांटी खुशियां-----*


बुजुर्गों को तनाव मुक्त करने का प्रयास "सुकून" -  एक शाम हमारे बुजुर्गो के नाम


न्यूज आफ फतेहपुर

कानपुर,07 मार्च। गोल्डेन डेज"परिवार ने शहर के वृद्धाश्रमों व समाज में रहने वाले बुजुर्ग एवम वृद्धजनों में खुशियां बाँटने के लिए एक अनूठी पहल की है, जिसका नाम है "सुकून" - "एक शाम हमारे बुजुर्गों के नाम" इस कार्यक्रम के माध्यम से हम "वृद्धाश्रम"और "समाज मे रहने वाले हमारे बुजुर्ग" व वृद्धावस्था में पहुँच चुके लोगों को सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे संगीत के माध्यम, अपने विचारों के माध्यम और उनके साथ समय बिता कर उनको एकाकी या तनाव युक्त जीवन से बाहर निकालने का प्रयास करेंगे।

जिसकी शुरुआत आज किदवई नगर स्थित वृद्धाश्रम से की गई। कार्यक्रम में स्वर गंधार संगीत संस्थान द्वारा गणेश वंदना से कार्यक्रम की शुरुवात की उसके बाद पुराने गीतों की प्रस्तुति में सिंगर बंटी ने चला जाता हूँ, शुभम ने जिंदगी प्यार का गीत आदि के गानों से वह मौजूद हर शक्श पुराने समय की यादों में पहुच गया।


गोल्डन डेज के फाउंडर अनुज निगम ने कहा ये एक पहल मात्र है हमारा मकसद अपने बुजुर्गों को गानों और विचारों के माध्यम से उनके समय की यादों को याद दिलाकर कुछ पल का सुकून देने है।


कार्यक्रम में मुख्य रूप से गोल्डन डेज के प्रेरणाश्रोत श्री ध्रुव निगम, फाउंडर अनुज निगम, प्रशांत सक्सेना, अरुण कनौजिया, नीति निगम, उद्देश्य निगम, विवेक, अक्षत शुक्ला, स्वर गंधार संगीत संस्थान के सिंगर बंटी, शुभम, नेहा वर्मा, राम शरण प्रजापति, डॉक्टर अजय तिवारी, राजू यादव, आकृति फ़ाउन्डेशन - विनीता अग्रवाल, ईशू ट्रेडर्स - 

 ताबीर फ़ाउन्डेशन - डॉक्टर सब यूनुस, अक्षणी ग्रामीण एवम शहरी विकास संस्थान की रानू जैन ,ओम प्रकाश तिवारी आदि उपस्थित रहे।

Popular posts
योगी की नही विद्युत वितरण खंड प्रथम में चल रही है सपा मानसिकता के रामसनेही की सरकार
चित्र
14 साल की नाबालिग का थाने में हुआ प्रसव:
चित्र
भ्रष्ट अधिशासी अभियंता के रहते नहीं हो सकता है योगी सरकार का सपना साकार- तिवारी
चित्र
राजकीय पॉलिटेक्निक बिंदकी के छात्रों द्वारा जैविक पेंट (गोबरपेंट) का किया गया निर्माण
चित्र
अगर आता है आपको भी बार-बार पेशाब, तो समझ लीजिए कि शरीर में पनप रही है ये बीमारियां
चित्र