उत्तर प्रदेश सरकार ने गेहूं क्रय नीति को दी मंजूरी,एमएसपी पर ई-पॉप मशीनों के जरिए से होगी खरीद

 उत्तर प्रदेश सरकार ने गेहूं क्रय नीति को दी मंजूरी,एमएसपी पर ई-पॉप मशीनों के जरिए से होगी खरीद



न्यूज़।उत्तर प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर शुरू होने वाली गेहूं की सरकारी खरीद के लिए क्रय नीति को कैबिनेट बाई सर्कुलेशन मंजूरी दे दी गई है। यूपी में रबी सीजन की गेहूं खरीद एक अप्रैल से 15 जून तक 6000 क्रय केंद्रों पर होगी। पहली बार इलेक्ट्रानिक प्वाइंट आफ पर्चेज मशीनों के जरिए होने वाली गेहूं खरीद की नीति को कैबिनेट बाई सर्कुलेशन स्वीकृति दी गई है।खाद्य आयुक्त मनीष चौहान ने बताया कि प्रदेश में गेहूं खरीद के लिए किसानों का पंजीकरण विभाग की वेबसाइड पर आरंभ हो गया है। इस वर्ष 1975 रुपये प्रति क्विंटन न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद की जाएगी। किसानों से गेहूं खरीद में पारदर्शिता बरतने के लिए क्रय केंद्रों पर ई-पॉप मशीनों का प्रयोग किया जाएगा। इसके लिए किसान को गेहूं बेचने के लिए बायोमीट्रिक मशीन पर अपने अंगुठे की छाप लगानी होगी। किसान किन्हीं कारणों से क्रय केंद्र पर नहीं आ पाता है तो उसे अपने परिवार के किसी सदस्य का आधार नंबर देना होगा।खाद्य आयुक्त मनीष चौहान ने बताया कि बायोमीट्रिक व्यवस्था से गेहूं खरीद में बिचौलियों का दखल खत्म करने में मदद मिलेगी। किसानों का राहत देने के लिए खाद्य एवं रसद विभाग ने एक विशेष एप तैयार किया है। जिसके जरिए किसान अपने निकटतम क्रय केेंद्र की लोकेशन भी जान सकेंगे। एप द्वारा क्रय केेंद्र प्रभारी, उसका फोन नंबर तथा केंद्र तक पहुंचने का मार्ग भी पता चल सकेगा।

Popular posts
प्रयागराज ग्रुप 60 यूपी बीएन एनसीसी बटालियन फतेहपुर के कैडेट निशांत सिंह हुए सम्मानित
चित्र
डीएम अपूर्वा दुबे का प्रयास लाया रंग, कोरोना केसों से मुक्त हुआ दोआबा – तीन दिनों से नया केस न मिलने से अफसरो ने ली राहत की सांस
चित्र
योगी सरकार के सपनों को चकनाचूर करने में जुटा है अधिशासी अभियंता रामसनेही
चित्र
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बने किसानों के मसीहा, खोल दिया खजाना।
चित्र
भ्रष्ट अधिशासी अभियंता के रहते नहीं हो सकता है योगी सरकार का सपना साकार- तिवारी
चित्र