प्रदेश में 16 आरटीओ, 40 एआरटीओ का तबादला

 प्रदेश में 16 आरटीओ, 40 एआरटीओ का तबादला 



निर्मल बने लखनऊ परिक्षेत्र के उप परिवहन आयुक्त


उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन प्राधिकरण एसटीए अपर सचिव बनी विदिशा सिंह


लखनऊ में तैनात आरटीओ संजय कुमार तिवारी मिर्जापुर आरटीओ प्रशासन बने


अंकिता शुक्ला को आयुक्त मुख्यालय पर एआरटीओ प्रवर्तन का मिला कार्यभार


लखनऊ। परिवहन विभाग ने शुक्रवार को अपने कई संभागीय परिवहन अधिकारियों और एआरटीओ का स्थानांतरण कर दिया है। परिवहन आयुक्त मुख्यालय में तैनात निर्मल प्रसाद को उप परिवहन आयुक्त लखनऊ परिक्षेत्र बनाया गया है। लखनऊ की आरटीओ प्रवर्तन विदिशा सिंह को उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन प्राधिकरण एसटीए का अपर सचिव बनाया गया है। लखनऊ में तैनात आरटीओ संजय कुमार तिवारी को मिर्जापुर आरटीओ प्रशासन बनाकर भेजा गया है। देवा रोड एआरटीओ कार्यालय में तैनात अंकिता शुक्ला को आयुक्त मुख्यालय पर एआरटीओ प्रवर्तन का कार्यभार सौंपा गया है। इनके स्थान पर एआरटीओ वीके अस्थाना की तैनाती की गई। लखनऊ आरटीओ कार्यालय में तैनात एआरटीओ संजय कुमार गुप्ता को एआरटीओ प्रर्वतन फिरोजाबाद में तैनाती मिली है।

प्रदेश में 16 आरटीओ, 40 एआरटीओ का तबादला :

 लखनऊ समेत प्रदेशभर में परिवहन विभाग में अलग-अलग पदों पर तैनात करीब सौ कर्मियों का स्थानांतरण किया गया है। इसमें 16 आरटीओ और 40 एआरटीओ हैं। लखनऊ टीम में एआरटीओ प्रवर्तन रहे अमित राजन राय का तबादला गाजियाबाद प्रवर्तन दल में कर दिया गया है, वहीं यहां तैनात पीटीओ रवि त्यागी को लखनऊ से गोरखपुर भेजा गया है। बलिया के पीटीओ रहे विष्णु कुमार और बरेली में तैनात रहे प्रशांत कुमार का स्थानांतरण लखनऊ प्रवर्तन दल में कर दिया है। इसके अतिरिक्त संभागीय निरीक्षक प्राविधिक के 15 और 16 यात्रीकर अधिकारी भी बदले गए हैं। उर्दू अनुवादकों को भी हटाया गया है। इसके अलावा यूपी रोडवेज के सेवा प्रबंधक समेत कई अधिकारी बदले गए हैं।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र