तुम्हारे हिस्से का हर दर्द,

 "समर्पण"


तुम्हारे हिस्से का हर दर्द, 

                  हम अपने हक में लेते हैं l

हमारे हिस्से का हर सुख, 

                  तुम्हारे  नाम  करते  हैं l

चलो कुछ दूर चल करके, 

          हम अपना दुःख सुख कहते हैंl

तुम्हारे दुःख के बदले हम ,

             अधर    मुस्कान  देते   हैं l

चलो अंतस के भावों को ,

            समझते हैं अब हम दोनों l

शिकायत जो कुछ भी है ,

               चलो हम दूर करते हैं l

मिले हैं मुश्किलों से हम ,

             सफ़र मिल कर तय करते हैं l

मिला कर के कदम अब हम, 

             चलो  हर  पीर  हरते  हैं l

तुम्हारे आंचल के कांटे ,

             स्व पलकों से हम चुनते हैं, 

मेरे दामन के हर मोती ,

             तुम्हारे  नाम   करते   हैं l

हमारे रूठने पर हम ,

            चलो  मिलकर  मनातें हैं,

थकन जीवन के अब तक को ,

            चलो मिलकर मिटाते हैं l

तुम्हारे हिस्से का हर दर्द, 

            हम अपने हक में लेते हैं, 

हमारे हिस्से का हर सुख ,

             तुम्हारे   नाम  करते  हैं l


रश्मि पाण्डेय बिंदकी, फतेहपुर l

Popular posts
पान मसाला विक्रेता के दुकान गोदाम में एसआईबी जीएसटी टीम का छापा
चित्र
राजस्व वसूली एवं सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने वाले के विरुद्ध दर्ज हुई एफ आई आर
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
एन्टी रोमियो टीमों ने चलाया चेकिंग अभियान
चित्र
कम होने का नाम नहीं ले रही हैं चेयरमैन प्रतिनिधि की मुश्किलें
चित्र