मैं भाव से भरी हूँ,

 " वास्तविकता"


मैं भाव से भरी हूँ, 


           वेदना से अति हूँ l

मैं राग की रागिनी, 

         ज़िंदगी की गति हूँ l

मुझे है नहीं आज, 

          परवाह अपनी l

मैं बन कर चली,

            रब की ही बंदिनी हूँ l

चुभन साथ लेकर, 

               मैं पग पग चली हूँ l

चुभन ही बनी है, 

                मेरी आत्मशक्ति l

मैं भाव से भरी हूँ, 

                 वेदना से अति हूँ l

मैं राग की रागिनी, 

                  ज़िंदगी की गति हूँ l

बदल डालूँ जीवन, 

                 भला अपना कैसे ? 

जियूँ ,सादगी को , 

           .        मिटाकर के कैसे ? 

तपन, त्याग, तप से, 

                   लिया आत्म सम्बल l

मैं रजनी की विरह, 

                    समेटे  चली   हूँ l

तपन आग हिय में, 

                     जला  कर जली  हूँ l

मैं भाव से भरी हूँ, 

                     वेदना से अति हूँ l

मैं राग की रागिनी, 

                   ज़िंदगी की गति हूँ l




रश्मि पाण्डेय

ARP, मलवां, 

बिंदकी, फतेहपुर

9452663203

Popular posts
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
सहारा इंडिया कार्यकर्ता पुलिस अधीक्षक से मिले, पैसा दिलाने की मांग
चित्र
जिंदा हूँ तो जी लेने दो, चलती राहों में भी पी लेने दो.....ड्यूटी में भी पी लेने दो।
चित्र
भाजपा महिला मोर्चा की तरफ से सदस्यता अभियान चलाकर की गई बैठक
चित्र