राज्य महिला आयोग सदस्य ने पोषण पंचायत कार्यक्रम का फीता काटकर किया शुभारंभ

 राज्य महिला आयोग सदस्य ने पोषण पंचायत कार्यक्रम का फीता काटकर किया शुभारंभ



फतेहपुर।विकास खंड परिसर हसवा/तेलियानी में सदस्या उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग, श्रीमती अनीता सचान ने पोषण पंचायत कार्यक्रम का फीता काटकर, दीप प्रज्वलित कर माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस मौके पर गोंद भराई, अन्न प्राशन भी सदस्या द्वारा किया गया। उन्होंने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार के मंशा के अनुरूप बच्चो और गर्भवती महिलाओं, धात्री महिलाओ , किशोरियों को  पोषण स्तर में सुधार लाये जाने के उद्देश्य से  राष्ट्रीय पोषण माह दिनांक 30 सितम्बर तक आयोजित किया जायेगा। "कुपोषण छोड़ पोषण की ओर,थामे क्षेत्रीय भोजन की डोर"  महिलायें बहनों  अपने व अपने बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति सजग रहे। शिक्षा , स्वास्थ्य, स्वच्छता के प्रति जागरूक बने। जिससे परिवार का विकास हो सके। सरकार के मंशा के अनुरूप केंद्र सरकार व राज्य सरकार द्वारा चलायी जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं से माताओ, बहनों को शत प्रतिशत लाभान्वित किया जाय,  योजनाओं धतारल पर स्पष्ट रूप से दिखाई देना चाहिए। आगनबाड़ी , आशाबहुए महिलाओं को जागरूक करके योजनाओं का लाभ दिलाकर उनके विकास की सहभागी बने। जिस समाज मे नारियों का सम्मान होता उस समाज का निश्चित विकास होता है। जननी सुरक्षा योजना, प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का लाभ देने के लिए आशा,आँगनवाडी कार्यकत्री आपस मे समन्वय बनाकर महिलाओं को जागरूक करके लाभन्वित करे और बेहतर स्वास्थ्य दे। उन्होंने कहा कि महिलाओ पर होने वाले अत्याचार की शिकायत दर्ज कराने के लिए मुख्यमंत्री ने हेल्पलाइन नम्बर जारी किए है जिसमे वुमेन पावर हेल्पलाइन 1090, घरेलू हिंसा से पीड़ितो हेतु 181 इसमे निःशुल्क विधिक सहायता भी मिलती है और इसका ऑफिस जिला अस्पताल में है, हर थाने में महिला हेल्प डेस्क एवं एंटीरोमियो स्क्वायट । पुलिस 112, 1098 चाइल्डलाइन, एमरजेंसी के दौरान 1076 और ग्राम पंचायतो में 02 महिला आरक्षी रखे गए हैं। महिलाएं इन नंबरों का फायदा उठा सकती है। सरकार  द्वारा नारी को सशक्त बनाने के उद्देश्य  से विभिन्न योजनाये  चलाई जा रही है जिसमे नारी सुरक्षा, सम्मान, स्वालम्बन के तहत नारियों को सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने, नारी से ही सृष्टि का सृजन होता है।  महिलाये पोषण के प्रति लापरवाही न बरतें क्योंकि उचित पोषण न मिलने पर उनका व उनके बच्चों के विकास में काफी समस्या उत्पन्न होती है। शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता के प्रति विशेष ध्यान दे। बच्चों को शिक्षा दिलाये जिससे उनका व उनके परिवार सुखमय जीवनयापन कर सके।   पोषण माह में कुपोषण के स्तर में कमी लाने हेतु पोषण से सम्बन्धि विभिन्न गतिविधियो का आयोजन  करके जागरूक बनाकर महिलाओं बहनो को लाभान्वित  किया जाय। उन्होने कहा कि प्रत्येक गतिविधियो में सम्बन्धित अधिकारियो एवं समुदाय की भागीदारी सुनिश्चित की गई हैं। उन्होने कहा  पोषणमाह के तहत सरकारी स्कूलो, आवासीय स्कूलो, आँगनबाड़ी केन्द्रो, ग्राम पंचायत के अतिरिक्त पोषण वाटिका की स्थापना हेतु वृक्षारोपण  लागये गए। उन्होने कहा कि पोषण वाटिका में मौसमी हरी सब्जियो को लगाया जाये ताकि गर्भवती महिलायें उसका उपयोग कर अपने स्वास्थ को स्वस्थ बना सकें।  जीरो से 05 वर्ष तक के बच्चों का वजन व लम्बाई/ऊचाई की माप के लिये सभी समुचित  व्यवस्था हैं इसका लाभ महिलाओं व बच्चों को दिलाये।इस मौके पर खंड विकास अधिकारी हसवा गोपीनाथ पाठक, जिला कार्यक्रम अधिकारी राजीव सिंह, खंड शिक्षा अधिकारी हसवा जयसिंह, महिला थानाध्यक्ष नमिता सिंह, सीडीपीओ हसवा अनीता सक्सेना, मनोज कुमार, पी0एच0सी प्रभारी चिकित्साधिकारी हसवा एवं ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि तेलियानी सुमित तिवारी, खंड शिक्षा अधिकारी तेलियानी, सीडीपीओ तेलियानी कन्हैया लाल, अर्जुन सिंह देवमयी सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे ।

Popular posts
जिले में महिलाओं के हत्या युक्त अज्ञात शव मिलने का नहीं थम रहा सिलसिला 3 दिन पहले मिली थी हत्या युक्त महिला का शव अभी तक नहीं हुई कोई शिनाख्त
चित्र
योगी सरकार ने छात्रवृत्ति का बदला नियम, जानिए पैसे लेने के लिए करना होगा क्या नया काम
चित्र
प्रेम प्रसंग के चलते प्रेमी युगल हुए एक दूजे के
चित्र
15 हजार से कमाई कम तो मिलेगा बीमा और आयुष्मान कार्ड का लाभ, करना होगा यह काम
चित्र
दिल्ली के निर्भया कांड में आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने वाली देश की चर्चित अधिवक्ता सीमा समृद्धि लड़े गीं कानपुर की निर्भया का केस
चित्र