खून से खत लिख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की देंगे बधाई

 खून से खत लिख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की देंगे  बधाई 



17 सितंबर को अमर शहीद स्मारक  में होगा कार्यक्रम


फतेहपुर। सत्रह सितंबर को  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के स्वयंसेवक  अपने खून से खत लिखकर उनको बधाई देंगे एवं बुंदेलखंड को बचाने के लिए अलग राज्य बनाने की मांग करेंगे। बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के केंद्रीय अध्यक्ष प्रवीण पाण्डेय ने बताया कि वे 17 सितंबर को रिकार्ड 22वीं बार प्रधानमंत्री को अपने खून से खत लिखेंगे। कार्यक्रम अमर शहीद दरियाव सिंह स्मारक  में आयोजित किया जाएगा।

पृथक बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर लगातार अभियान चला रहे प्रवीण पाण्डेय ने  बताया कि सरकारें भगवान राम की तपोभूमि बुंदेलखंड को खनन हब बनाने में लगी हुई हैं और यहां की खूबसूरत नदियों, पहाड़ों व जंगलों का अंधाधुंध दोहन कर रही हैं। बाहर के बड़े-बड़े लोग बुंदेलखंड के हीरे जवाहरात लूट रहे हैं और यहां के लोग रोजी रोटी की तलाश में महानगरों की ओर पलायन कर रहे हैं। बकस्वाहा जंगल में हीरे निकल आने की वजह से सरकार उस खुबसूरत जंगल को उजाड़ना चाहती है। केन बेतवा लिंक परियोजना में भी 23 लाख पेड़ काटे जाने हैं। हम लोग मोदीजी को खून से खत लिखकर बुंदेलखंड को ऐसी योजनाएं न देने की मांग करेंगे जिससे हमारा बुंदेलखंड बर्बाद हो जाए।

पाटकर ने बताया कि बुंदेलखंड देश का सबसे अच्छा पर्यटन क्षेत्र है। इसे पर्यटन हब बनाना है। यहां की बर्बाद हो रही सभी खूबसूरत धरोहरों को अगर कायदे से संवार दिया जाए तो न केवल यहां बाहर से हजारों सैलानी घूमने आएंगे बल्कि यहां रोजगार की अपार संभावनाएं भी विकसित होंगी लेकिन यह अलग राज्य बने बगैर संभव नहीं है। समिति के प्रवक्ता देव व्रत त्रिपाठी ने कहा खंड खंड अखंड बने राज्य बुंदेलखंड बने l

Popular posts
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
सहारा इंडिया कार्यकर्ता पुलिस अधीक्षक से मिले, पैसा दिलाने की मांग
चित्र
जिंदा हूँ तो जी लेने दो, चलती राहों में भी पी लेने दो.....ड्यूटी में भी पी लेने दो।
चित्र
भाजपा महिला मोर्चा की तरफ से सदस्यता अभियान चलाकर की गई बैठक
चित्र