भावों की भाषा को कहना सिखाती,

 "हमारी हिंदी"


भावों की भाषा को कहना सिखाती, 


ख़ुद को भी ख़ुद से मिलना सिखाती l

हमें   धैर्य से   आगे बढ़ना   सिखातीl, 

ये हिंदी हमें मिल के रहना सिखाती l


कभी वंशी की धुन में रस घोल देती, 

कभी तो ये जीवन को संगीत देती l

कभी तो प्रकृति के भी संग मिलके, 

जीवन को बहुमुल्य उपहार देती l


हमारे ह्रदय में नवों रस मिलाकर, 

हमें रस समन्वित कविताएँ देती l

ये हिंदी हमारी हमें मान देकर, 

जग में हमें गौरवान्वित भी करती l


अम्बर औ धरती का विस्तार देती, 

हमें मातृभूमि पे मिटना सिखाती l

हमें निज गौरव का मान देकर, 

ये हिंदी हमें मान देना सिखाती l


मिटा कर सभी भेद मन का हमारे, 

ह्रदय, प्रेम रस का सिंचन कराती l

ये हिंदी हमें भाव गहराई देकर, 

हमें सिंधु- सरिता सम है मिलाती l


कभी तो क्षितिज के भी पार जाकर, 

धरती- अम्बर मिलन भी कराती l

हमें भाव सरिता में बहना सिखाती, 

ये हिंदी हमें एक रहना सिखाती l




रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर

Popular posts
पाल समुदायिक उत्थान समिति एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा के तत्वाधान में सम्मेलन संपन्न
चित्र
चार माह बीतने के बाद भी दलित महिला प्रधान को नहीं मिला चार्ज
चित्र
मुंबई में धमाल मचा रहे हैं फतेहपुर के शिवार्थ श्रीवास्तव
चित्र
उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा मौका, चार अक्टूबर को हर जिले में लगेगा अप्रेंटिसशिप मेला
चित्र
प्यार दे कर जो हमें विदा हुए संसार से,
चित्र