शून्य आकाश से लेके धरती तलक,

 "ख़ोज"

शून्य आकाश से लेके धरती तलक, 


ख़ोज  तेरी  सदा  से  ही करते रहे l

 

भाव की वेदना , मन की संवेदना, 

दूर  होके  भी तुमको बताते  रहे l


मन के हर पीर को और नयन नूर को, 

रस से सिंचित हो कविता सजाते रहे l


वक्त  संघात  से , रिश्तों के घात से, 

हम  हमेशा  से ख़ुद को बचाते रहे l


शून्य आकाश से लेके धरती तलक, 

ख़ोज  तेरी  सदा  से  ही  करते रहे l


हिय की संजीदगी को ही पढ़के सतत्, 

मन  की  पाती  तुम्हें हम  सुनाते रहें l


कर समन्वित भावों की निजता को, 

नाम  तेरे  ही  कविता  को गढ़ते रहे l


मूक अधरों के गीतोँ की धुन में सतत्, 

प्रेम  की  वंशी हम नित  बजाते  रहे l


शून्य आकाश से लेके धरती तलक. 

ख़ोज   तेरी सदा  से  ही करते रहे l




रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर

9452663203

Popular posts
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
राजस्व वसूली एवं सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने वाले के विरुद्ध दर्ज हुई एफ आई आर
चित्र
दूल्हे के शराब पीने से दुल्हन ने तोड़ी शादी, कहा-शराबी के साथ पूरी ज़िंदगी नहीं गुजार सकती
चित्र
कान्हा गौशाला मलाका में प्रथम नेत्र चिकित्सा शिविर का हुआ आयोजन
चित्र