हादसों में कमी लाने की तैयारी, बन रहा डेटाबेस

 हादसों में कमी लाने की तैयारी, बन रहा डेटाबेस



फतेहपुर।राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी ‌‌)और आईआईटी मद्रास के सहयोग से एक एप्लीकेशन तैयार किया गया है। इस मोबाइल ऐप के जरिए क्षेत्र में होने वाले सड़क हादसों का डेटाबेस तैयार कर दुर्घटनाओं के कारणों का विश्लेषण करते हुए भविष्य में इन्हें रोकने की रणनीति तैयार की जा सकेगी।

 राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) फतेहपुर के जिला सूचना विज्ञान अधिकारी राम सेवक गौतम के अनुसार भारत सरकार की ओर से चलाई जा रही इस मुहिम में चार विभागों (पुलिस, चिकित्सा, परिवहन एवं हाईवे) के आपसी सामंजस्य से सड़क हादसों को रोकने में भूमिका  प्रभावी बनाने और इनकी जिम्मेदारियां तय करने में सहायता मिलेगी,जिले में इस प्रोजेक्ट के नोडल अधिकारी के तौर पर फतेहपुर सीओ सिटी श्री संजय कुमार सिंह के नेतृत्व में पुलिस विभाग की ओर से डाटा एंट्री का कार्य किया जा रहा है।

इस प्रोजेक्ट को प्रदेश के सभी जनपदों में लागू कर दिया गया है। डिस्टिक रोलआउट मैनेजर शान्ति नाथ मौर्य की ओर से प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है और साथ ही सभी थानों में प्रशिक्षण भी कराया जा रहा है और प्रशिक्षण प्राप्त सभी अधिकारियों के मोबाइल में यह ऐप इन्स्टाल करवाया जा चुका है। प्रदेश के सड़क हादसों की जानकारी आई रेड ऐप पर नाम, उम्र, लोकेशन, वाहन का विवरण, दुर्घटना का कारण और फोटो सहित अपलोड की जाती है साथ ही थाना स्तर के सभी थानाधिकारी के निर्देशन में सभी फील्ड ऑफिसर की भूमिका अहम हो जाती है। फील्ड अफसर की यह जिम्मेदारी होती है कि वह अपने द्वारा तफ्तीश किए जाने वाले मामलों को दुर्घटना स्थल पर जाकर दुर्घटनाओं का विवरण भरना होता है।

Popular posts
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
सहारा इंडिया कार्यकर्ता पुलिस अधीक्षक से मिले, पैसा दिलाने की मांग
चित्र
जिंदा हूँ तो जी लेने दो, चलती राहों में भी पी लेने दो.....ड्यूटी में भी पी लेने दो।
चित्र
भाजपा महिला मोर्चा की तरफ से सदस्यता अभियान चलाकर की गई बैठक
चित्र