डकैती व हत्या के मामले में पुलिस के हाथ खाली, अपराध का गढ़ बन गया राधानगर क्षेत्र

 डकैती व हत्या के मामले में पुलिस के हाथ खाली, अपराध का गढ़ बन गया राधानगर क्षेत्र



 अपराध नियंत्रण में फेल चौकी इंचार्ज निलंबित, तीन सिपाहियों पर भी गिरी गाज


 अपराध नियंत्रण के बजाय ओवरलोड वाहनो को निकालने में ब्यस्त रही राधानगर पुलिस


फतेहपुर । इन दिनों शहर कोतवाली क्षेत्र के राधानगर इलाका अपराध करके बच निकलने का सबसे सुरक्षित स्थान बन गया है। इस इलाके में दो से चार माह के अंदर लगभग दो दर्जन चोरियां हो चुकी हैं। लगभग दो माह पूर्व जयरामनगर मोहल्ले में तो एक ही रात में लगभग आधा दर्जन चोरियां हो गई थी। चोरो ने पूरे मोहल्ले में आतंक मचाया मगर सुबह फोन करने के बावजूद चौकी इंचार्ज ने पहुँचने तक की जहमत नही उठाई।नतीजा यह रहा कि इसी मोहल्ले में फिर दूसरे दिन एक फौजी समेत तीन घरों के ताले टूट गए। लगभग एक दर्जन चोरी की घटनाएं होने के बावजूद खुलासों में मेहनत करने के बजाय क्षेत्रीय पुलिस रात रात भर ओवरलोड़ मोरंग के वाहन निकालकर जेब भरने में मशगूल रही। जानकारी के अनुसार बहुआ चौकी से लगाकर शाह, राधा नगर, जयराम नगर फिर नौवन बाग में ओवर लोड ट्रक निकलवाने के लिए 200 रुपए लिए जाते हैं, रुपए लेने के लिए भी सिपाहियो व होम गार्ड द्वारा सड़क पर ठेलिया लगाने वाले या पान की गुमटी वालों को ही गाड़ी वालों से रुपए दिलवाए जाते है। जिससे की मीडिया या बड़े अधिकारियों को इसकी जानकारी न हो सके, फिर इस रुपए को आपस में बांट लिया जाता है, यह रूपया किसके-किसके पास जाता है यह तो सभी को पता ही है, बहरहाल खुलासों में पुलिस की कलाकारी, लापरवाही व गश्त न करने की वजह से क्षेत्र में घटनाये इस कदर बढ़ी कि अपराधी बेखौफ हो गए इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि राधानगर पूर्वी नई बस्ती में बदमाशों ने घर मे लूट का विरोध करने पर एक बुजुर्ग को मौत के घाट उतार दिया। बुजुर्ग बलबीर सिंह रिटायर्ड अध्यापक थे।उनकी हत्या व लूट के बाद पुलिस के आलाधिकारी चेते और लापरवाह व अपराध नियंत्रण में फेल चौकी इंचार्ज पर कार्रवाई की।एसपी राजेश सिंह ने चौकी इंचार्ज राजेश कुमार सिंह, कोबरा के सिपाही पंकज, सचिन कुमार और बीट के सिपाही सुनील यादव को निलंबित किया है। उधर पुलिस ने कई संदिग्धों को उठाया है मगर पुलिस की कार्यशैली बता रही है कि वह अभी तक हवा में ही तीर मार रही है। इस बाबत सीओ सिटी दिनेशचन्द्र मिश्र ने बताया कि घटना के खुलासे के प्रयास में टीमे लगी हैं। कई संदिग्धों को उठाया गया है। सम्भव है कि आस पास का ही कोई गैंग है। जल्द ही घटना का खुलासा किया जाएगा।