किशोरी को ट्रक ने कुचला दर्दनाक मौत

 किशोरी को ट्रक ने कुचला दर्दनाक मौत



बांदा सागर मार्ग में  अतिक्रमण का फैला कारोबार हादसों को दे रहे दावत  


कस्बे में दुर्घटना का केंद्र बिंदु  अतिक्रमण हादसों में बढ रहा मौंत का आंकड़ा पुलिस बनी पंगु


फतेहपुर। जनपद के कल्यानपुर थाना क्षेत्र के चौडगरा कस्बे में पूर्व जिलाधिकारी आंञ्जनेय  सिंह के अतिक्रमण हटाओ अभियान के बाद से कस्बे में दोबारा तेजी से  अतिक्रमण कारोबार फैल रहा है।

फल, ठेलिया, सब्जी दुकान, टैक्सी स्टैंड के चलते बांदा सागर मार्ग,कानपुर मार्ग,फतेहपुर मार्ग में टैक्सी, मैजिक, ओमिनी कार के चलते दिनभर कस्बे में जाम का झाम जैसी स्थिति बनीं रहती है। जिससे राहगीरों को आवागमन में असुविधा का सामना करना पड़ता है।

 कई बार भारी वाहन, तेज रफ्तार वाहनों के चलते कस्बे में दुर्घटना होती रही है। जिसमें कई लोग अब तक जान गवा चुके हैं। ताजा मामला हरदौलपुर निवासी पारुल सिंह पुत्री सुरेंद्र सिंह गौर उर्फ बंटू सुबह चौडगरा कस्बे से गांव जाते समय तेज रफ्तार ट्रक ने कुचल दिया किशोरी की दर्दनाक मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने ट्रक को कब्जे में ले कर शव को पोस्टमार्टम हेतु फतेहपुर भेजा।उधर कस्बे में 2017 के दौरान देर शाम अंडा की दुकान  में तेज रफ्तार पिकअप की टक्कर से दो लोगों की मौके में ही दर्दनाक मौत हो गई हरसिंहपुर निवासी फैलू  गौंड भी अनियंत्रित ट्रक की टक्कर से दोनों पैर कुचल गए थे। इसके बाद इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। 23 अक्टूबर देर रात कस्बे में अज्ञात अधेड़ को गंभीर हालत में 108 के माध्यम से जिला अस्पताल भिजवाया गया जहां इलाज के दौरान मौत हो गई।

2019 के अप्रैल माह में मौहार निवासी आशु सिंह गौतम  की मैजिक स्टैंड के समीप तेज रफ्तार ट्रक की टक्कर से मौत होने के बावजूद न तो  प्रशासन चेता न ही स्थानीय पुलिस 

आशंका है कि यदि ऐसा ही चलता रहा तो जल्द ही कस्बे में किसी बड़ी अनहोनी या दुर्घटना से इनकार नहीं किया जा सकता।

कस्बा निवासी व्यापारी महेंद्र सिंह ने बताया कि अतिक्रमणकारियों के चलते आम राहगीरों का निकलना दूभर हो गया है चारों तरफ बड़े हैवी वाहनों के साथ टैक्सी, ऑटो ई.रिक्शा, फुटपाथ घेरे  सब्जी विक्रेता व ठेले रेहडी दुकानदारों के चलते कस्बा मकड़जाल में उलझ गया है। जो स्थानीय प्रशासन की अनदेखी की बदौलत चल रहा है। जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे के निर्देशन में जलभराव की स्थिति पर व्यापारियों की मांग पर कस्बे में अतिक्रमण हटाओ अभियान के निर्देश पर तत्कालीन प्रमोद झा उपजिलाधिकारी नें अतिक्रमण पर चाबुक चलाने के संकेत दिए थे। अधिकारियों के बीच पत्राचार भी कई बार हुआ बावजूद अब तक धरातल पर अभियान नहीं उतरा।