पुरातन छात्र परिषद का हुआ गठन विवेक मिश्रा बने अध्यक्ष

 पुरातन छात्र परिषद का हुआ गठन विवेक मिश्रा बने अध्यक्ष



सरस्वती विद्या मंदिर में युवा दिवस के रूप में मनाई गई विवेकानंद जयंती


अंग्रेजी संवर्ग के अध्यक्ष बने यश प्रताप सिंह 


फतेहपुर। आज सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज वीआईपी रोड में स्वामी विवेकानंद के जन्मोत्सव कार्यक्रम को युवा दिवस के रूप में मनाया गया। कार्यक्रम के दौरान पुरातन छात्र परिषद का भी गठन किया गया। जिसमें अध्यक्ष विवेक मिश्रा को सर्वसम्मति से मनोनीत किया गया। वही अंग्रेजी संवर्ग में यश प्रताप सिंह को अध्यक्ष बनाया गया। कार्यक्रम में वक्ताओं ने स्वामी विवेकानंद जी के कृतित्व एवं व्यक्तित्व पर चर्चा करते हुए उनके आदर्शो पर चलने का संकल्प भी लिया। समाज को सही दिशा प्रदान करने वाले स्वामी जी के चरित्र को बताते हुए वक्ताओं ने विद्या मंदिर संस्कारों से जोड़ा। कमेटी में वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रसून तिवारी, महामंत्री प्रांशु द्विवेदी, उपाध्यक्ष रजत शिवहरे, मंत्री अभिषेक श्रीवास्तव एवं विवेक पासवान, सह मंत्री मोहित गुप्ता, कोषाध्यक्ष देव नारायण मिश्रा, मीडिया मंत्री योगाशु श्रीवास्तव, समन्वयक मनीष शुक्ला, सदस्य हर्ष कुमार, विकास साहू, तथीर, अंकुश सिंह एवं रजत मिश्रा को मनोनीत किया गया। वही संरक्षक के रूप में डॉ अनुराग श्रीवास्तव को घोषित किया गया। इस अवसर पर विद्यालय आचार्य कृष्ण चंद्र वर्मा, अनुज मिश्रा, जितेंद्र नाथ बाजपेई, आशुतोष बाजपाई, अभिषेक शुक्ला, सुमित सैनी शिवम दीक्षित, आशुतोष तिवारी, अक्षत बाजपेई, राज सिद्धार्थ सिंह, कुशाग्र अग्निहोत्री, करण चौधरी, नितिन विश्वकर्मा, अस्मित सैनी, शिवांग गुप्ता, आदित्य पटेल, प्रवीण कुमार, यश त्रिवेदी, अजय कुमार, विश्वास अग्रहरी, अचिंत्य दुबे, आकाश गुप्ता, विकास तिवारी, मनदीप यादव, उदय राज पटेल, अनुज सिंह, आशीष राजपूत आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम का कुशल संचालन क्रीडा आचार्य महेश सिंह चौहान ने किया।

Popular posts
सदर सीट से प्रमोद द्विवेदी को चुनाव लड़ा सकती हैं भाजपा
चित्र
केशव मौर्या के भाजपा से प्रत्यासी घोषित होते ही समर्थकों ने दागे पटाखे,बांटी मिठाई
चित्र
मकरस्क्रान्ति त्यौहार के शुभ अवसर पर किशनपुर में लगा ऐतिहासिक मेला
चित्र
दारा सिंह चौहान के इस्तीफे से क्या पड़ सकता है सियासत पर बड़ा फर्क
चित्र
कोर्रा कनक किशोरी हत्याकांड में ललौली पुलिस ने किया खुलासा सगा भाई ही निकला हत्यारा।
चित्र