बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति ने चलाया जल, जंगल और जमीन बचाओ अभियान

 बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति ने चलाया जल, जंगल और जमीन बचाओ अभियान

 


शुभ अवसरों पर एक-दूसरे को उपहार में दें पौधे: प्रवीण पाण्डेय 


फतेहपुर। बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए जल, जंगल और जमीन बचाओ बुन्देलखण्ड राज्य बनाओ जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। प्रथक बुंदेलखंड राज्य निर्माण हेतु समिति के केंद्रीय अध्यक्ष व स्वयंसेवक रिकार्ड 26 बार अपने खून से पीएम मोदी को पत्र लिख चुके हैं। बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति के केंद्रीय अध्यक्ष प्रवीण पाण्डेय ने सोमवार को पचमई, मोहनापुर गांव में छात्रों से संवाद किया। उन्होंने कहा कि इस धरा को हराभरा बनाए रखने के लिए पेड़-पौधे बहुज जरूरी हैं। प्रत्येक युवा अपने जन्म दिन पर एक पौधा जरूर लगाए। अपने मित्रों के जन्म दिन या किसी शुभ अवसर पर उपहार में पौधा दें। जीव विज्ञान के छात्र उमेश सिंह ने पौधारोपण मे सहयोग का संकल्प लिया। कहा कि उनका प्रयास होगा कि स्वयं पौध रोपण करते हुए ग्रामीणों को भी इस मुहिम में जोड़ें। सुरेश सिंह ने औषधीय पौधों पीपल, नीम, तुलसी के गुण बताए। छात्र रमेश ने पर्यावरण के विषयमें ग्रामीणों को जानकारी देते हुए बताया कि किस प्रकार पेड़ों में वातावरण को शुद्ध करने की प्राकृतिक शक्ति होती है। छात्रों ने  पर्यावरण संरक्षण, साफ-सफाई, रसायनिक पदार्थों के दुष्प्रभाव, कूड़ा-कचरा का प्रबंधन आदि विषयों पर अपने विचार रखे। अवधेश, कविता, विनोद, धर्मेंद्र कुमार, शिवचरण, दलजीत सिंह, राजन, परम सिंह ने भी जल, जंगल और जमीन अभियान विषय पर अपने विचार रखें। स्नातक के छात्र शुभम पटेल ने कहा कि वृक्ष हमारे जीवन का अहम अंग हैं। उन्होंने साभी युवाओं तथा स्कूली छात्रों को पर्यावरण संतुलन एवं प्रदूषण समस्या के प्रति जागरूक किया। उन्होंने बताया कि समिति द्वारा जागरूकता के लिए चित्रकला, नारा लेखन, पोस्टर मेकिंग और भाषण प्रतियोगिताएं आयोजित कराई जाती हैं। जिसमे उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं, युवाओं, समाज सेवियों को पुरस्कृत किया जाता है। अनिल, सतपाल, रविंद्र, जतिंद्र पटेल, जगमोहन यादव आदि रहे।