मुँह देखा व्यवहार कर रहे,

 " कपट "



मुँह देखा व्यवहार कर रहे, 

 


              थम्ब प्रदर्शित करते लोग l


ईर्ष्या से हो ग्रषित लोग अब, 

                सिम्बल मैसेज करते लोग l


भावों की गुरुता को नष्ट कर, 

                 रूप ह्रदय लघु करते लोग l


कभी भाव गरिमा को नष्ट कर, 

                  महिमा मंडित करते लोग l


कभी किसी की बेहतरता को, 

                   नष्ट- भ्रष्ट कर देते लोग l


कभी बढ़ावा को देकरके, 

                   विकृतियाँ पनपाते लोग  l


कभी नष्ट मर्यादा को कर, 

                  यूँ ही मुँह को बनाते लोग l


कभी किसी की शुचिता पर भी, 

                तोहमत बहुत लगाते लोग l


कभी दिखावा में पड़ करके, 

          अहमियत प्रदर्शित करते लोग l


झूठी काना-  फूसी करके, 

               दकियानूसी करते लोग  l


कभी किसी की सच्चाई को, 

               तब्दील झूठ में करते लोग l


हर समूह में बेहतरता को  , 

                 हेय दृष्टि कर देते लोग l


मान किसी को ही अपना बस, 

                 थंब प्रदर्शित करते लोग l


वहीं किसी की पावनता  पर , 

                मौन के साधक बनते लोग l







रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फ़तेहपुर