सुना है कि बड़ी दुनिया में,

 " तंग ह्रदय "



सुना है कि बड़ी दुनिया में, 


                छोटे लोग रहते हैं  l


ह्रदय जिनका बहुत है तंग, 

                 सोंच भी तंग रखते हैं l


दिखावा करके ही मुख में, 

                  मुखौटा साथ रखते हैं l


विषैले युक्त ह्रदय से, 

                    मुख में राम भजते हैं l


बड़े छल औ कपट से भी, 

                     भगत बगुला बने रहते l


कवच लेकर दिखावा का, 

                      बहुत ही ढोंग करते हैं l


बिना जज़्बात के जीवन, 

                      न जाने कैसे जीते हैं l


सुना है  कि बड़ी दुनिया में 

                       छोटे  लोग  रहते हैं  l



रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर