भट्ठा निर्मित लाल ईटों के टैक्स प्रतिशत की वृद्धि के विरोध में सौपा ज्ञापन

 भट्ठा निर्मित लाल ईटों के टैक्स प्रतिशत की वृद्धि के विरोध में सौपा ज्ञापन



जीएसटी काउंसिल के निर्णय का विरोध।


बांदा संवाददाता।बांदा उद्योग व्यापार मंडल के जिला अध्यक्ष सत्यप्रकाश के निर्देशन में सत्य प्रकाश सर्राफ ने अपने दल बल के द्वारा वित्त मंत्री भारत सरकार नई दिल्ली को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी बांदा के माध्यम से भट्टे में निर्मित लाल ईटों पर कर दर में वृद्धिका प्रस्ताव को वापस लिए जाने के सन्दर्भ में। जी0एस0टी0 काउंसिल की 45वीं बैठक में भट्ठों में निर्मित लाल ईंटों पर कर दर में

बिना आईटीसी क्लेम किए 01 प्रतिशत से बढ़ाकर 06 प्रतिशत तथा आईटीसी क्लेम करने पर कर दर : प्रतिशत से बढ़ाकर 12 प्रतिशत किए जाने का प्रस्ताव 01 अप्रैल, 2022 से पारित किया गया है। भट्टे की

ईंटों पर दो प्रकार के अव्यवहारिक एवं अनुचित कर दर वृद्धि प्रस्ताव को वापस लिए जाने के औचित्य पर

हमारा कथन निम्न प्रकार है-

ईंट भट्ठा एक ग्रामीण कुटीर सीजनल प्रकृति का उद्योग है। कोरोना महामारी के कारण ईंट व्यवसाय पूरी तरह चौपट और घाटे में है, वहीं दूसरी ओर जनसाधारण का भी काम-काज बुरी तरह प्रभावित होने के कारण वित्तीय स्थिति खराब है। ऐसे हालात में जनसाधारण के निर्माण की मूलभूत आवश्यकता

ईंटों पर कर दर बढ़ाने का प्रस्ताव जनविरोधी है। यह कि मैन्युफैक्चरर्स सेक्टर के 40 लाख तक सालाना टर्नओवर व्यवसाय जी0एस0टी0 में कर मुक्त है। जबकि काउंसिल की 45वीं बैठक में ईंट निर्माताओं के लिये 20 लाख रूपये सालाना टर्नओवर तक करमुक्त का प्रस्ताव किया गया है जो कि ईंट भटठा व्यापारियों के साथ घोर अन्याय है। यह कि ईंट निर्माताओं के लिये जी0एस0टी0 में वर्तमान में 1.50 करोड टर्नओवर तक कम्पोजीशन सीमा है (बिना आईटीसी क्लेम के) जिसमें 01 प्रतिशत की कर दर है। काउंसिल की 45वीं बैठक में बिना आईटीसी लिए कर दर 06 प्रतिशत किए जाने का प्रस्ताव है तथा सामान्य रूप से (आईटीसी क्लेम करने पर) ईंटों पर कर दर 05 प्रतिशत है, जिसे 12 प्रतिशत किए जाने का प्रस्ताव है। यह वृद्धि प्रस्ताव अव्यवहारिक हैं । इसका सीधा प्रभाव ईंटों की कीमतों पर पड़ेगा। यह कि 90 प्रतिशत व्यापारी वाणिज्यकर समाधान योजना/जीएसटी कम्पोजीशन स्कीम के अंतर्गत् इंटों पर ग्राहक से कर वसूल नहीं किया जाता रहा है, व्यापारी कर अपने पास से जमा करता है।

अतः आपसे निवेदन है कि पूरे भारतवर्ष में लगभग 03 करोड बेरोजगार भूमिहीन निर्बल वर्ग के

श्रमिकों को रोजगार देने वाले भट्ठा उद्योग तथा आम जनहित में ईंटों पर कर दर में वृद्धि प्रस्ताव को तत्काल प्रभाव से निरस्त करते हुये आगामी 02 सीजन वर्ष के लिये ईंट बिक्री को जी0एस0टी0 में कर मुक्त

घोषित करें।ज्ञापन देने में संतोष अनशनकारी,प्रेम गुप्ता, शिवपूजन गुप्ता,कमलेश कुमार गुप्ता,सत्य प्रकाश सराफ,महेश प्रसाद उपाध्याय,अनिल उत्तम,दिलीप जैन,सौरभ लक्षकार,ज्वाला प्रसाद गुप्त,राकेश रावत,राजेंद्र कुमार मिश्रा, राहुल राजपूत,आदि सभी सदस्य गण उपस्थित रहे।