हुसैनगंज कस्बे में भी चलेगा बाबा का बुलडोजर

 हुसैनगंज कस्बे में भी चलेगा बाबा का बुलडोजर



हुसैनगंज (फतेहपुर)। शासन के निर्देशानुसार राजस्व विभाग तालाबी नंबरों से अवैध कब्जा हटाने के लिए तालाबों की हुई नाप जोक!

आज रविवार को तहसीलदार सदर ने कस्बे के डलमऊ, छिउलहा व असनी मार्ग पर तालाबी नंबर पर किए गए अवैध निर्माणों को चिन्हित किया!राजस्व विभाग इन सभी अवैध निर्माण करने वालों को नोटिस देने की कर रही है तैयारी, इसके बाद चलेगा बुलडोजर,दुकानदारों में मचा हड़कंप! हुसैनगंज शासन के निर्देश पर प्रदेश के सभी जनपदों कस्बों गांवों में अवैध रूप से तालाबी नंबर पर किए गए कब्जे को खाली कराने के लिए राजस्व विभाग ने कारवाही शुरू कर दिया है! वही हुसैनगंज कस्बे के मुख्य चौराहे पर काफी अरसे से तालाबी नंबरों पर लोगों ने अवैध कब्जा कर अपनी बिल्डिंग खड़ी कर ली है! अब शासन के निर्देश पर किए गए अवैध कब्जे हटेंगे!

इसके लिए राजस्व विभाग ने तैयारी कर ली है, 10 दिन पूर्व सदर तहसीलदार के साथ राजस्व विभाग की टीम ने हुसैनगंज कस्बे के छिउलहा, असनी व डलमऊ मार्ग पर स्थित तालाबी नंबरों की नाप जोक किया था! राजस्व विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार गाटा संख्या 2588,2589,2590 और 860 तालाबी नंबर दर्ज है, और कई वर्षों से इन तालाबों को मिट्टी से पूर कर लोगों ने अवैध निर्माण खड़े कर लिए हैं, अब शासन ने इन तालाबों पर किए गए अवैध निर्माणों को हटाने की कवायद शुरू की है! आपको मालूम हो कि हुसैनगंज चौराहे में करीब 4 दशक से लोगों ने धीरे-धीरे मिट्टी डाल कर तालाबों को पूर् कर अपने अवैध निर्माण खड़े कर लिए हैं! उन्हें खाली कराने के लिए शासन ने आदेश जारी किए!

आज रविवार को राजस्व विभाग की टीम के साथ तहसीलदार सदर रवि शंकर यादव ने कस्बे के चौराहे पर असनी रोड डलमऊ व छिवलहा रोड पर  तालाबी नंबरों पर बने अवैध निर्माणों को चिन्हित किया, तहसीलदार सदर ने बताया कि अब इन अवैध निर्माण करने वालो के विरुद्ध नोटिस जारी करने की तैयारी भी चल रही है! जिन लोगों ने तालाब पर अवैध निर्माण कार्य कर लिए हैं उनको नोटिस देने के बाद कुछ समय दिया जाएगा, कि वे खुद अपना अवैध निर्माण अपने से हटा ले, अगर फिर भी लोग अवैध निर्माण को नहीं हटा रहे हैं, तो बुलडोजर से अवैध निर्माण को गिरा, उनसे पूरा खर्चा खर्चा जुर्माना वसूला जाएगा, इन सबके बीच अवैध निर्माण कर्ताओं के बीच हड़कंप मचा हुआ है! इन अवैध निर्माणों को हटाकर शासन की मंशा है कि तालाबो को अपने पुरानी अवस्था में लाया जाए।