अयोध्या का माहौल बिगाड़ने की कोशिश : दो मस्जिदों के गेट पर फेंकी गई आपत्तिजनक वस्तुएं, पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर

 अयोध्या का माहौल बिगाड़ने की कोशिश : दो मस्जिदों के गेट पर फेंकी गई आपत्तिजनक वस्तुएं, पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर       



न्यूज़।असामाजिक तत्वों ने अयोध्या में दो मस्जिदों के गेट व एक मोहल्ले की सड़क पर आपत्तिजनक वस्तुएं फेंककर शहर का सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने का प्रयास किया। सूचना मिलते ही पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने धर्मगुरुओं के साथ बैठक करके हालात का जायजा लिया और शीघ्र ही कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया। इससे असामाजिक तत्वों की कोशिश नाकाम हो गई और मौके पर अमन-चैन कायम है। पुलिस सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है।कोतवाली नगर क्षेत्र के वक्फ जामा मस्जिद टाटशाह के सचिव ने पुलिस को दिए तहरीर में बताया कि मंगलवार की देर रात करीब दो बजे मस्जिद के मोअज्जिन ने रोज की तरफ सुबह की नमाज के लिए मस्जिद का गेट दक्षिणी तरफ खोला तो चार मोटर साइकिल पर दो-दो लोग बैठे थे और पश्चिम तरफ जा रहे थे। जब उन्होंने मस्जिद की सीढिय़ों पर देखा तो धार्मिक ग्रंथ फटा हुआ पड़ा मिला। साथ ही मांस का टुकड़ा व एक पोस्टर भी मिला, जिसमें मोहम्मद साहब के बारे में अपशब्द लिखा था। बताया कि मस्जिद के सीसीटीवी में सारी घटना कैद हुई है। वहीं, मोहल्ला काश्मीरी मस्जिद व घोसियाना मोहल्ले में भी इसी तरह की सामग्री पड़ी मिली, जिसकी सूचना भी पुलिस को दी गई।घटनाओं की सूचना मिलते ही पुलिस के कान खड़े हो गए। सांप्रदायिक सौहार्द व शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए आनन-फानन में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेश पांडेय, जिलाधिकारी नितीश कुमार दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे और नाकेबंदी शुरू कर दिया। जिले के धर्मगुरुओं के साथ एसएसपी व जिलाधिकारी ने मस्जिद परिसर में बैठक किया और शरारती तत्वों पर कड़ी कार्रवाई करने का धर्मगुरुओं को आश्वासन देते हुए सहयोग की अपील किया। जिस पर धर्मगुरु सहमत हुए और शांति व्यवस्था में खलल पैदा करने की असामाजिक तत्वों की कोशिश नाकाम हो गई।

एसएसपी के निर्देश पर ही जिले की पुलिस अलर्ट हो गई। सभी गलियों, चौराहों, नुक्कड़ों पर सघन जांच व छानबीन शुरू हुई। मस्जिद के चारों तरफ की सभी दुकानों, मकानों, चौराहों पर आदि पर लगे सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर आरोपियों की गिरफ्तारी करने का प्रयास तेज हो गया। उधर, मामले की सूचना मिलते ही मंडलायुक्त नवदीप रिणवा व पुलिस महानिरीक्षक कवींद्र प्रताप सिंह ने भी मस्जिदों में पहुंचकर धर्मगुरुओं से बातचीत किया और आपसी सौहार्द बनाए रखने की अपील करते हुए शीघ्र ही मामले का पर्दाफाश करने का आश्वासन दिया। इसके बाद दोनों अधिकारियों ने तीनों घटनास्थलों का जायजा लेते हुए शहर में मार्च भी निकाला। फिलहाल खबर लिखे जाने तक आरोपियों की धरपकड़ केे लिए छह टीमें कार्य कर रही थीं। जिले में पूरी तरह अमन-चैन कायम रहा।