जनपद की तेजतर्रार जिला अधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री की चेतावनी के खौफ से बेखौफ हैं संबंधित विभाग के अधिकारी

 जनपद की तेजतर्रार जिला अधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री की चेतावनी के खौफ से बेखौफ हैं संबंधित विभाग के अधिकारी



जनता की आशाएं हो रही है चकनाचूर संबंधित विभाग का अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त है भरपूर


भ्रष्ट अधिकारी का है बोलबाला नहीं है कोई रोकने वाला



फतेहपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि प्रदेश के किसी भी जनपद की क्षतिग्रस्त सड़कों के निर्माण कार्य में संबंधित विभागीय अधिकारियों द्वारा कोई भी लापरवाही की गई और राहगीरों के साथ किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना घटित हुई तो संबंधित अधिकारी व ठेकेदारों पर गंभीर कार्यवाही की जाएगी। मुख्यमंत्री की चेतावनी का असर भले ही समूचे प्रदेश में होता नजर आ रहा हो किंतु इस जनपद के संबंधित विभागीय अधिकारी मुख्यमंत्री की चेतावनी की धज्जियां उड़ाते हुए अपनी मनमानी कर रहा है। मालूम रहे कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं पूर्व लोक निर्माण विभाग मंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने जनपद को सड़कों की कई सौगात दी थी इतना ही नहीं जनपद को भिटौरा गंगा ओवर ब्रिज की सौगात भी दिया था किंतु इसके बावजूद संबंधित अधिकारियों द्वारा क्षतिग्रस्त सड़कों का निर्माण कार्य नहीं कराया जा रहा है और राहगीर क्षतिग्रस्त सड़कों पर अप्रिय घटना का शिकार हो रहे हैं किंतु संबंधित विभाग के अधिकारी धृतराष्ट्र बने बैठे हैं। हैरत की बात तो यह है कि जनपद के गाजीपुर से असोथर की सड़क विगत 5 वर्षों से पूरी तरह क्षतिग्रस्त है क्षेत्र की आम जनता में चर्चा इस बात की है कि गाजीपुर से असोथर तक की सड़क के निर्माण कार्य का पैसा ठेकेदारों को भुगतान करने के बाद भी यह सड़क विगत 5 वर्षों में नहीं बन पाई है और चर्चा इस बात की भी है कि ठेकेदारों को पैसे का भुगतान किए जाने के बाद फिर से सड़क का चौड़ीकरण के साथ बजट पास हुआ है और सड़क के निर्माण कार्य में लगने वाले भुगतान के पैसों का संबंधित अधिकारियों व ठेकेदार द्वारा बंदरबांट कर लिया गया है तथा सड़कों को क्षतिग्रस्त अवस्था में ही छोड़ दिया गया है क्षेत्र की आम जनता ने बताया कि इस क्षतिग्रस्त सड़क पर प्रतिदिन किसी न किसी राहगीर के साथ अप्रिय घटना घटित हो रही है। क्षेत्र की आम जनता ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यशैली तो लाजवाब है किंतु जनपद के माननीयों द्वारा कहीं ना कहीं लापरवाही बरती जा रही है। गौरतलब बात तो यह है कि आखिरकार संबंधित अधिकारियों को जनपद की तेजतर्रार जिला अधिकारी से ले कर प्रदेश के मुख्यमंत्री तक किसी का भी भय नहीं है और इसीलिए संबंधित विभाग के अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त होकर बिना किसी खौफ के अपनी मनमानी करने में जुटे हुए हैं।