भावों की गहनता,

 "छाया"

भावों की गहनता, 


             विचारों की उच्चता। 

ह्रदय की गह्वरता, 

              अक्षरों की सौन्दर्यता। 

मन की संवेदनशीलता, 

                प्रेम की पावनता। 

पापा!तुमसे ही तो पाया है, 

         जीवन तुम्हारी ही तो छाया है।

काम ईमान से करना, 

            वफ़ा से सराबोर रहना। 

ख़ूब परिश्रम करना, 

            असत्य से किञ्चित् न डरना । 

ख़ुद ही ख़ुद की ढाल बनना, 

              अपने रास्ते स्वयं बनाना। 

पापा! तुमसे ही तो पाया है, 

            जीवन तुम्हारी ही तो छाया है।

निश्छलता साथ रखना, 

               किसी का गलत न करना। 

आत्मसम्मान से रहना, 

                  हर स्थित में अडिग रहना।

रिश्ते में विश्वास रखना, 

                   ज़िन्दगी सार्थक करना। 

पापा! तुमसे ही तो पाया है, 

           जीवन तुम्हारी ही तो छाया है। 




रश्मि पाण्डेय 

बिन्दकी फतेहपुर

Popular posts
चेहरे पर मुहासे के दाग होने की वजह से 8 जगहों से टूटा रिश्ता हीनभावना से ग्रसित,युवती ने फांसी लगाकर की आत्महत्या
चित्र
लगभग 5 करोड़ रुपए की अष्टधातु की मूर्ति के साथ एक आरोपी गिरफ्तार
चित्र
एंटी करप्शन टीम ने रिश्वत लेते बाबू को रंगेहाथ पकड़ा, एरियर निकालने के लिए मांगे थे 14 हज़ार रुपये
चित्र
उत्तर प्रदेश में मुफ्त राशन वितरण व्यवस्था में बदलाव, अब राशनकार्ड धारकों को चावल ज्यादा और गेहूं कम मिलेगा
चित्र
अतिक्रमणकारियों पर होगी सख्त कार्रवाई--- एसडीएम बिंदकी
चित्र