प्रतिबंधित पोकलैंड मशीनों से बालू माफियाओं द्वारा किया जा रहा अवैध खनन

 प्रतिबंधित पोकलैंड मशीनों से बालू माफियाओं द्वारा किया जा रहा अवैध खनन


 


बांदा - जनपद में अवैध खनन जोरों पर है लगातार नदियों का सीना चीर कर खनन किया जा रहा है। बालू माफियाओं के हौसले इतने बुलंद है जिला प्रशासन उन पर किसी तरह की कार्यवाही करने में सक्षम नहीं नजर आ रहा है जनपद में आवंटित खदानों में भारी मशीनों से लगातार किए जा रहे बालू खनन पर पूर्ण रूप से रोक लगाने के लिए केन नदी का अस्तित्व बचाने के लिए सुशील त्रिवेदी पूर्व सदस्य विकास प्राधिकरण व पूर्व अध्यक्ष छात्र संघ ने दिया जिलाधिकारी को ज्ञापन।

आपको बता दें पूरा मामला जनपद बांदा की विभिन्न खदानों से निकल कर आया है जहां की नदी का अस्तित्व को बचाने के लिए अवैध खनन पर पूर्ण रूप से रोक लगाने के लिए जिलाधिकारी  को ज्ञापन दिया गया बताते चले केन नदी सहित अन्य नदियों में भारी मशीनों से बालू माफियाओं द्वारा लगातार अवैध खनन किया जा रहा है। नदी की जलधारा से भारी मशीनों से खनन किया जा रहा है नदी की जलधारा से प्रतिबंधित पोकलैंड मशीनों द्वारा खनन किए जाने के कारण नदी का अस्तित्व समाप्त होता नजर आ रहा है और ऐसे ही लगातार अगर खनन जारी रहा तो लोग पानी को तरसे बालू माफिया निजी स्वार्थ के चलते जीवनदायिनी नदियों के अस्तित्व को समाप्त करने में तुले हैं

अब देखने लायक होगा जिला प्रशासन उस पर किस तरह की कार्यवाही करता है क्या जिला प्रशासन नदियों के अस्तित्व को बचाने में कामयाब रहेगा या नहीं।