केन स्थित सभी बालू खंडों में प्रतिबंधित पोकलैंड मशीन का उपयोग बंद कराया जाए : सुशील त्रिवेदी ( पूर्व छात्र नेता )

 केन स्थित सभी बालू खंडों में प्रतिबंधित पोकलैंड मशीन का उपयोग बंद कराया जाए : सुशील त्रिवेदी ( पूर्व छात्र नेता )



रिपोर्ट - श्रीकांत श्रीवास्तव


बांदा - आज सुशील त्रिवेदी पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष सदस्य विकास प्राधिकरण बांदा के द्वारा दल बल के साथ एक बड़े जन समुदाय सहित चित्रकूट धाम मंडल आयुक्त कार्यालय पहुंच कर ज्ञापन के माध्यम से निम्न बिंदुओं पर मांग की,जनपद बाँदा जिले की जीवनदायिनी कहे जाने वाली केन नदी पेयजल का मुख्य स्रोत है जहाँ पर बालू माफ़िया निजी स्वार्थ के लिए केन नदी की जलधारा से प्रतिबंधित पोकलैण्ड

मशीनों द्वारा बालू निकालकर अवैध खनन का काला कारोबार करते हैं जिसके कारण नदी नाले में तब्दील हो गई हैं कहीं भारी प्रदूषण की वजह से ऑक्सीजन की कमी तो कहीं नदियों की जलधारा से प्रतिबंधित भारी मशीनों द्वारा किए गए खनन की वजह से जमीन में जलस्तर लगातार नीचे गिर रहा

हैं। बेशकीमती पानी के मोल को समझा नहीं गया ऐसे में अब जमीन भी पानी देने में पहले जैसी नहीं रही। यदि प्रतिबंधित भारी मशीनों से इसी प्रकार अवैध खनन होता रहा तो आने वाले समय में जिलेवासी बूंद बूंद पानी को तरस जाएंगे बालू माफ़िया निजी स्वार्थ के चलते प्रशासन की मिलीभगत से नदी के अस्तित्व को समाप्त करने पर तुले हैं आज केन नदी नाले के रूप में तब्दील हो चुकी हैं

बालू माफियाओं द्वारा प्रतिबंधित भारी मशीनों से खनन किए जाने के कारण कई स्थानों पर तो 40- 45 फिट के गहरे गड्ढे कर दिए गए है। केन नदी की अबिरल जलधारा को बचाने के लिए मशीनों से खनन पर रोक लगाने के लिए दिनांक 11 मई को जिलाधिकारी को मांग पत्र दिया गया था लेकिन बालू माफियाओ द्वारा उसी प्रकार नदी की जलधारा से लगातार अवैध खनन किया जा रहा हैं।

बालू खनन का कार्य मजदूरों से कराए जाने से केन नदी की अबिरल जलधारा को तो बचाया ही जाएगा साथ ही मजदूरों का पलायन भी रुकेगा।

महोदय शहर में धुलाई सेंटरों, शादी विवाह केन्द्रो एवं मिनिरल वाटर केन्द्रो में पानी की

बर्बादी अत्यधिक की जाती हैं ऐसे स्थानों पर पानी के रिचार्ज की व्यवस्था कराई जानी चाहिए ।

अतः आपसे अनुरोध हैं कि जनहित में केन नदी की अबिरल जलधारा को बचाने एवं जनपद बांदा के समस्त बालू खंडों में आवंटित पट्टा धारकों को उनके क्षेत्र में प्रतिबंधित भारी ऑकलैंड मशीनों के उपयोग करने से तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाना ही जीवनदायिनी के नदी के अस्तित्व पर मंडराते हुए खतरे को दूर किया जा सकेगा।

टिप्पणियाँ
Popular posts
लड़की से अभद्रता करना युवक को पड़ा भारी,
चित्र
रेलवे परिसर में बने हनुमान मंदिर को गिराने के लिए रेलवे प्रशासन की नोटिस
चित्र
नाबालिक हिंदू लड़की को अपहरण कर, धर्म परिवर्तन करने का दबाव बनाने वाले अभियुक्त के घर में चला बुलडोजर,
चित्र
डीआईजी एवं एसपी ने किया घटना स्थल का निरीक्षण, संदिग्ध परिस्थितियों में मिला था किसान का शव
चित्र
यातायात नियमों का पालन करने से होती अपनी सुरक्षा:एसडीएम
चित्र