मदरसा दारुल उलूम हश्मतुर्रजा जदीद में हिंदी दिवस में गोष्ठी का आयोजन

 मदरसा दारुल उलूम हश्मतुर्रजा जदीद में हिंदी दिवस में गोष्ठी का आयोजन




बांदा - प्रधानाचार्य मौलाना मुहम्मद नईमुद्दीन ने कहा - हिंदी आज वेंटीलेटर पर है क्योंकि जिस अंग्रेजी ने हमें गुलामी की जंजीरों में जकड़ रखा था आज उसी भाषा के गुलाम हो गए 

अध्यापक गौस मुहम्मद ने पढा़ मैं हूं हिंदी वतन की बचा लो मुझे

आपको बतादे की बबेरू तहसील अंतर्गत ग्राम पंचायत हरदौली में स्थित मदरसा दारुल उलूम हश्मतुर्रजा जदीद में हिंदी दिवस के अवसर पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। प्रबंधक मौलाना मुहम्मद इदरीस कादरी ने हिंदी दिवस के अवसर पर आयोजित गोष्ठी में कहा कि हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा  है, हमारी पहचान है हिंदी है तो हिंदुस्तान की एक अलग पहचान है। प्रधानाचार्य मौलाना मुहम्मद नईमुद्दीन ने अपने संबोधन में कहा कि आज हम सबको हिंदी दिवस मनाने की जरूरत इसलिए पड़ रही है क्योंकि हिंदी आज वेंटीलेटर पर है क्योंकि जिस अंग्रेजी ने हमें गुलामी की जंजीरों में जकड़ रखा था आज हम उसी भाषा के आदी होते जा रहे हैं, हिंदी पढ़ लेते हैं लेकिन हिंदी में ठीक से बात नहीं कर पाते। अध्यापक गौस मुहम्मद ने पढा़ मैं हूं हिंदी वतन की बचा लो मुझे। 

हिंदी दिवस के अवसर पर सभी देशवासियों से हिंदी भाषा को प्राथमिकता देने की गुजारिश भी की गई क्योंकि हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है इसी से हमारी पहचान है।

कार्यक्रम में प्रबंधक मौलाना मुहम्मद इदरीश कादरी प्रधानाचार्य मौलाना मुहम्मद नईमुद्दीन, गौस मुहम्मद, मौलाना शमशीर,कारी अब्दुल कुद्दूस, आशना फातिमा ,रहनुमा फातिमा व निशा बानो सहित मदरसा के अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ