मानवता के प्रकाश स्तंभ एवं एक निर्भीक सन्यासी थे श्रद्धानंद-आचार्य संजय याज्ञिक

 मानवता के प्रकाश स्तंभ एवं एक निर्भीक सन्यासी थे श्रद्धानंद-आचार्य संजय याज्ञिक



 कानपुर। जिला आर्य प्रतिनिधि सभा कानपुर नगर के तत्वाधान में महर्षि दयानंद के अद्वितीय शिष्य, शुद्धि आंदोलन के अग्रणी नेता, गुरुकुल शिक्षा प्रणाली के उन्नायक और समाज के गौरव अमर बलिदानी स्वामी श्रद्धानंद जी का बलिदान दिवस शनिवार को उत्साह पूर्वक मनाया गया। जिसमें एक विशाल शोभायात्रा निकाली गई जो आर्य कन्या इंटर कॉलेज गोविंद नगर से प्रारंभ होकर चावला मार्केट चौराहा से बाटा ,सीटीआई, नदंलाल चौराहा होते हुए वापस आर्य कन्या इंटर कॉलेज में आकर समाप्त हुई। शोभायात्रा में नगर के विभिन्न विद्यालयों की छात्राएं -छात्र तथा सभी आर्य समाजो के पदाधिकारी शामिल हुए। जनसभा को संबोधित करते हुए मेरठ से पधारे वैदिक प्रवक्ता आचार्य संजय याज्ञिक ने कहा कि स्वामी श्रद्धानंद जी मानवता के प्रकाश स्तंभ ,एक निर्भीक सन्यासी थे। राष्ट्र की विषम परिस्थितियों में भी स्वामी जी ने अपनी स्वतंत्र मेधा एवं आत्मविश्वास के साथ गुरुकुल खोलने का जो प्रयोग किया वह महर्षि दयानंद सरस्वती के प्रति उनका भाव -भीना अर्ध्य था। आचार्य जी ने कहा कि स्वामी श्रद्धानंद जी सच्चे अर्थों में आचार्य ,अभिभावक, पथ प्रदर्शक एवं निर्भीक नेता थे। उनका व्यक्तित्व जनता के संपूर्ण जीवन को स्पर्श करने वाला था। उन्होंने कहा कि  स्वामी श्रद्धानंद जी भारत में शुद्धि आंदोलन चलाने वाले पहले महान व्यक्तित्व थे जिन्होंने किसी कारण या भय व आतंक के वशीभूत इस्लाम स्वीकार कर लिया था को पुनः शुद्धि कर पूर्व के वैदिक धर्म में पुनः प्रवेश कराया ।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक महेश त्रिवेदी जी ने उपस्थित कई  विद्यालयों के बच्चों का मार्गदर्शन करते हुए उन्हें स्वामी श्रद्धानंद जी को सांप्रदायिक सौहार्द का प्रतीक बताया ।कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि डॉ बीना आर्या पटेल ने स्वामी श्रद्धानंद तथा महर्षि स्वामी दयानंद व आर्य समाज की महत्ता का गुणानुवाद किया और गुरुकुल परंपरा को विश्व के लिए महान धरोहर बताया ।उन्होंने बताया कि उनका जीवन भी गुरुकुल जाकर निखर गया ।जनसभा के पश्चात कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण भव्य शोभायात्रा रही। जिसमें आर्य कन्या इंटर कॉलेज की छात्राएं स्वामी श्रद्धानंद एवं महर्षि दयानंद का रूप धारण कर भगवा वस्त्र में दो घोड़ियों पर सवार होकर आर्य समाज की पताका लिए सबसे आग चल रही थी। इसके पीछे एक बालिका भारत माता बनकर बग्घी पर सवार रही। आर्य कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं ने बैंड पर सुंदर धुन निकाल सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। महर्षि दयानंद विद्यालय दीपपुर ,आदर्श नेताजी सुभाष विद्यालय कृष्णानगर, कामद सरस्वती इंटर कॉलेज विश्व बैंक बर्रा ,विश्व भारती ज्ञान निकेतन इंटर कॉलेज गोविंद नगर ,सरस्वती शिशु विधा मंदिर आदि विद्यालयों के बच्चों ने शोभायात्रा में सहभागिता की। बच्चे वेद की ज्योति जलती रहे, स्वामी श्रद्धानंद अमय रहे,आर्य समाज की जय आदि के नारे लगा रहे थे। आर्य कन्या की छात्राओं ने पूरी शोभायात्रा में विश्व पर्यावरण की शुद्धि का मुख्य कार्य यज्ञ संपारित किया। स्त्री आर्य समाज गोविंद नगर की महिलाएं शोभायात्रा में ऋषि गाथा के भजन गाते हुए चल रही थी। युवा मोटरसाइकिलो पर ओम ध्वज लेकर सवार थे। जगह जगह व्यापारियों एवं जनता ने शोभा यात्रा का फूलों की वर्षा कर भव्य स्वागत किया।

शोभायात्रा व जनसभा  मे प्रमुख रूप से विधायक महेश त्रिवेदी, भाजपा दक्षिण जिलाध्यक्ष डा. वीना आर्या पटेल,जिला प्रधान संतोष आर्य,सुरेन्द्र गेरा, प्रकाश वीर आर्य,सुभाष आर्य, आनन्द आर्य, शिवबालक पाल,हर्ष सिंह चौहान, प्रकाश पाण्डेय, हनुमान प्रसाद आर्य

टिप्पणियाँ
Popular posts
लड़की से अभद्रता करना युवक को पड़ा भारी,
चित्र
रेलवे परिसर में बने हनुमान मंदिर को गिराने के लिए रेलवे प्रशासन की नोटिस
चित्र
नाबालिक हिंदू लड़की को अपहरण कर, धर्म परिवर्तन करने का दबाव बनाने वाले अभियुक्त के घर में चला बुलडोजर,
चित्र
डीआईजी एवं एसपी ने किया घटना स्थल का निरीक्षण, संदिग्ध परिस्थितियों में मिला था किसान का शव
चित्र
यातायात नियमों का पालन करने से होती अपनी सुरक्षा:एसडीएम
चित्र