एक दिवसीय महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा कार्यशाला का आयोजन

 एक दिवसीय महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा कार्यशाला का आयोजन



बाँदा - मिशन वात्सल्य व मिशन शक्ति योजना के प्रभावी क्रियान्वयन, समन्वय एवं कन्वर्जेन्स हेतु एक दिवसीय महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयुक्त चित्रकूटधाम मण्डल बांदा सभागार में प्रभारी आयुक्त/जिलाधिकारी बांदा दुर्गा शक्ति नागपाल की अध्यक्षता में कार्यशाला सम्पन्न हुई, जिसमें प्रमुख कार्यक्रम को दो प्रमुख अम्ब्रेला योजनाओं/मिशन शक्ति एवं मिशन वात्सल्य के अन्तर्गत महिलाओं, बालिकाओं एवं बच्चों के सर्वंार्गीण विकास एवं उनकी सुरक्षा, संरक्षण एवं सशक्तिकरण को सुनिश्चित किये जाने पर जोर दिया गया।

कार्यशाला में मुख्य अतिथि जिलाधिकारी बांदा श्रीमती दुर्गा शक्ति नागपाल ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि बडे हर्ष का विषय है कि मुझे आज इस कार्यशाला में रहने का अवसर मिला। महिलाओं, बालिकाओं एवं बच्चों के समन्वय एवं कन्वर्जेन्स हेतु एक दिवसीय कार्यशाला दो प्रमुख अम्ब्रेला योजनाओं/मिशन शक्ति एवं मिशन वात्सल्य के अन्तर्गत जो सेक्टर छूट गये हैं उन पर ध्यान केन्द्रित कर पायें। उन्होंने कार्यशाला में मण्डल के समस्त अधिकारियों एवं स्वयं सेेवी संस्थाओं से अनुरोध किया कि जो अपने-अपने जनपदों में मिशन शक्ति एवं मिशन वात्सल्य के अन्तर्गत अच्छा कार्य कर रहे हैं वो सभी अपना-अपना अनुभव साझा करें तथा इस कार्यशाला में सभी लोग मिलकर कार्य करें, जिससे हमारा एक्सन प्लान तैयार हो जायेगा, जो मिशन वात्सल्य एक रोड मैप की तरह है। शासन का उद्देश्य है कि एक-एक बच्चे को फलने-फूलने एवं उसके सर्वांर्गीण विकास का अवसर प्राप्त हो। यह हमारा दायित्व है कि हम सभी अपनी-अपनी जिम्मेदारियों को भली-भांति निर्वहन कर समाज की अपेक्षाओं पर खरा उतरें तथा बालक एवं बालिकाओं तथा पीडित महिलाओं को संरक्षण प्रदान कर शासन की योजनाओं से लाभान्वित करायें। उन्होंने कहा कि बाल अधिकार को बहुत अहमियत दी गयी है, आज के बच्चे देश का भविष्य हैं। उन्होंने बच्चों को पूर्णतः जागरूक करने पर जोर दिया। बहुत सारे ऐसे माता-पिता है जो गरीबी के कारण अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा नही दिला पाते हैं, ऐसे बच्चों को शिक्षित एवं विकासशील बनाने हेतु हमारी सरकार प्रयत्नशील है। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं से सम्बन्धित पुलिस, स्वास्थ्य शिक्षा, ग्राम विकास, पंचायती राज, बाल विकास एवं पुष्टाहार, अभियोजन, श्रम, कौशल विकास मिशन, डालसा सी0डब्लू0सी0जे0जे0बी0 के अधिकारियों की क्षमता वृद्धि एवं महिलाओं एवं बालकों के मुद्दों पर कन्वर्जेन्स एवं क्वार्डीनेशन को मजबूत करने हेतु एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गयी है, जो कि सभी के लिए बहुत ही उपयोगी साबित होगी। उन्होंने तत्कालीन जिलाधिकारी के द्वारा चलाये गये नवेली-बुन्देली कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए कहा कि वह लगातार कन्या जन्मोत्सव के नाम नवजात बच्चियों का जन्मोत्सव मनाया जा रहा है और शासन की विभिन्न लाभार्थीपरक योजनाओं से उन्हें संतृप्त कराने का भी कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जनपद के समस्त अल्ट्रासाउण्ड सेन्टरों में जो महिलायें जांच कराने हेतु जाती है, उनसे सम्बन्धित एक रजिस्टर पूरे साल मेन्टेन कर उस रजिस्टर को टीम के द्वारा देखा जाए कि महिलाओं द्वारा बालिकाओं के बारे में कोई गलत सोंच तो नही अपनायी जा रही। गठित टीम रजिस्टर में अंकित रिपोर्ट के बारे में सम्बन्धि महिला से रैण्डम फोन द्वारा भी चेक किया जाए कि रजिस्टर में अंकित रिपोर्ट सही है या नही। सरकार द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढाओं एवं मिशन वात्सल्य योजना के अन्तर्गत बालिकाओं को अनेकों सुविधाये प्रदान की जा रही हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद के 220 प्राथमिक विद्यालयों में छोटे बच्चों को भी फर्नीचर उपलब्ध कराया गया है, ताकि वह बच्चे जमीन में न बैंठकर फर्नीचर में बैठकर अपनी शिक्षा ग्रहण करें। उन्होंने कहा कि हम सभी को ऐसे बच्चों एवं महिलाओं की जो भी हो सके मदद करनी चाहिए, मदद, मदद होती है उसमें छोटे-बडे का अंतर नही है।

कार्यशाला में श्री ओंकारनाथ तिवारी प्रोफेसर आॅफ लाॅ/किशोर न्याय एवं बाल अधिकार संरक्षण विशेषज्ञ जी0एल0ए0 यूनीवर्सिटी मथुरा ने मिशन वात्सल्य योजना के अन्तर्गत देख-रेेख व संरक्षण तथा विधि के विरूद्ध कार्य करने वाले बालक एवं संस्थागत व गैर संस्थागत सभी गति विधियों और कार्यों के दौरान बच्चों की केन्द्रीयता को ध्यान में रखते हुए प्रशासन की योजना में बच्चों को प्राथमिकता देने व परियोजनाओं और कार्यक्रमों को डिजाइन या वितरित करते समय बच्चे का सर्वोत्तम हित और परिवारों का समर्थन करने के लिए मजबूत सामाजिक सुरक्षा व्यवस्था के साथ खुशहाल पारिवारिक वातावरण में बढने के अधिकार को सुनिश्चित करने के लिए सकारात्मक कार्यवाही की जाए तथा परिवार और सामुदायिक स्तर पर बाल संरक्षण को मजबूत करना, कानून के ढांचे के भीतर बच्चों का सहयोग करने के लिए निजी क्षेत्र की भागीदारी और हस्तक्षेप को प्रोत्साहित किया जाए तथा बाल अधिकारों पर जन जागरूकता को बढावा एवं सरकार द्वारा प्रायोजित सुरक्षा के उपायों के बारे में जनता को शिक्षित किया जाए और बच्चों के सर्वोत्तम हित को सुनिश्चित करने में हितधारक के रूप में सभी स्थलों में समुदाय को शामिल किया जाए। ग्रामीण स्तर और शहरी नगर पालिका वार्ड के भीतर वार्ड और शहरी कलस्टर स्तर पर पंचायतों और नगर पालिका स्थानीय निकायों की भागीदारी मजबूत करना ध्यान देने हेतु योग मुद्दों को निरन्तर मूल्यांकन उचित हस्तक्षेपों का कार्यान्वयन एवं बच्चों के लिए एक मजबूत सामाजिक सुरक्षा व्यवस्था विकसित करने के लिए नियमित निगरानी की जाए।

श्री जावेद अंसारी स्टेट कन्सलटेन्ट महिला एवं बाल विकास उत्तर प्रदेश यूनीसेफ ने कहा कि मिशन शक्ति योजना एक मिशन मोड आधारित योजना है, जिसका उद्देश्य महिला एवं बालिका सुरक्षा, संरक्षा और सशक्तिकरण के लिए सहयोग व समर्थन को मजबूत बनाना है। यह योजना सम्पूर्ण जीवन चक्र में महिलाओं को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर विचार करने और उनके जीवन में बदलाव लायेगी तथा उन्हें नागरिक-स्वामित्व के माध्यम से राष्ट्र-निर्माण में समान भागीदारी बनायेगी। मिशन शक्ति योजना के तहत महिलाओं एवं बालिकाओं को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने, हिंसा और खतरे से मुक्त माहौल में अपने मष्तिस्क और शरीर के बारे में स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने को प्रेरित किया जायेगा। योजना के तहत महिलाओं पर देखभाल के बोझ को कम करने और कौशल विकास क्षमता निर्माण, वित्तीय साक्षरता, सूक्ष्म ऋण प्राप्त करने तक उनकी पहुंच बढाकर महिला श्रम बल की भागीदारी को बढाने का भी प्रयास किया जाये।

श्री पुष्पेन्द्र सिंह उप निदेशक महिला कल्याण चित्रकूटधाम मण्डल बांदा ने कार्यशाला के उद्देश्य तथा महिलाओं एवं बच्चों से सम्बन्धित मण्डल में किये गये उल्लेखनीय कार्यों पर प्रकाश डाला। कार्यशाला में जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा बाल सेवा योजना (कोविड) के अन्तर्गत जनपद बांदा के 11 बालिका/बालकों को जिसमें तिन्दवारी ब्लाक से स्नेहा, संध्या देवी, बडोखर खुर्द से अंजली, अनुुष्का साहू, छायांक्ष श्रीवास, बबेरू से नन्दनी सिंह, गरिमा, आदर्श सिंह तथा बांदा सदर से आकांक्षा सिंह, मनष्वी बाजपेयी एवं अनन्या धुरिया को लैपटाॅप का वितरण किया गया। कार्यशाला का शुभारम्भ मुख्य अतिथि जिलाधिकारी बांदा  दुर्गा शक्ति नागपाल ने दीप प्रज्जवलित कर किया।

टिप्पणियाँ
Popular posts
वर्षा/ ओलावृष्टि के कारण भेडो में मची भगदड़ के चलते 167 भेडो की मौत जबकि 16 भेडे घायल
चित्र
यूपीएससी में हुआ किसान के बेटे का चयन,किया गांव का नाम रोशन
चित्र
व्यापारी के साथ हुई मारपीट कांड की डीसीपी ने की जांच पडताल
चित्र
पत्नी द्वारा लगाए गए आरोप को पति ने बताया मनगढ़ंत कहानी
चित्र
पत्नी के नाम खरीदी प्रॉपर्टी पर परिवार का भी हक, मकान-जमीन रजिस्ट्री कराने से पहले जान लें HC का फैसला
चित्र