अखिल भारत हिन्दू महासभा का कलेक्ट्रेट परिसर में प्रदर्शन

 अखिल भारत हिन्दू महासभा का कलेक्ट्रेट परिसर में प्रदर्शन



ज्ञानवापी में नमाज पढ़ने से रोक लगाने की मांग



फतेहपुर।अखिल भारत हिन्दू महासभा के प्रदेश महासचिव के नेतृत्व में पहुचे कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट परिसर में प्रदर्शन करते हुए प्रधानमंत्री के नाम डीएम को ज्ञापन दिया।प्रदेश महासचिव ने कहा कि काशी के ज्ञानवापी में मुस्लिम समाज के लोगों के द्वारा नमाज पढ़ने पर रोक लगाई जाए।

अखिल भारत हिन्दू महासभा के प्रदेश महासचिव मनोज त्रिवेदी के नेतृत्व में संगठन के लोगों ने पार्टी कार्यालय पटेल नगर से जुलूस निकालकर कलेक्ट्रेट परिसर पहुचे और काशी के ज्ञानवापी में मुस्लिम समाज के द्वारा पड़ी जा रही नमाज पर रोकने लगने को लेकर जमकर नारेबाजी किया।प्रधानमंत्री के नाम डीएम को ज्ञापन देते हुए प्रदेश महासचिव मनोज त्रिवेदी ने कहा कि इतिहास के पन्नों में दर्ज है कि 1669 में औरंगजेब ने भगवान शिव की नगरी काशी में ज्ञानवापी परिसर स्थित मंदिर को ध्वस्त कर मस्जिद का निर्माण कराया गया था।

केंद्र और प्रदेश सरकार के प्रयास से पिछले दिनों ज्ञानवापी परिसर में भारतीय पुरातत्व विभाग सर्वेक्षण(ए एस आई )की रिपोर्ट में ज्ञानवापी परिसर में श्रंगार,मंडप,ज्ञान मंडप,ऐश्वर्य मंडप मूर्ति, शिवलिंग, स्वस्तिक सहित प्रमाण मिला है।जिसके बाद न्यायालय ने रिपोर्ट के आधार पर मुसलमानों को द्वारा पढ़ी जा रही नमाज पर रोक लगाने का आदेश दिया है।

हमारी मांग है कि मुस्लिम समाज के द्वारा पढ़ी जाने वाली नमाज को बन्द कराकर ज्ञानवापी को ही हिंदुओं को सौपा जाया।जिससे वहां पर एक भव्य मंदिर का निर्माण कराया जा सके।इस मौके पर रमा शंकर शुक्ला,संगीता गुप्ता,निरंजन श्रीवास्तव,स्वामी दयानंद बाबा,अर्जुन प्रसाद, डॉक्टर प्रमोद कुमार पांडेय,करन सिंह पटेल,राजा राम मौर्य,श्रवण कुमार,पुष्पा गुप्ता,शशिकांत मिश्रा सहित संगठन के नेता व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
वर्षा/ ओलावृष्टि के कारण भेडो में मची भगदड़ के चलते 167 भेडो की मौत जबकि 16 भेडे घायल
चित्र
यूपीएससी में हुआ किसान के बेटे का चयन,किया गांव का नाम रोशन
चित्र
व्यापारी के साथ हुई मारपीट कांड की डीसीपी ने की जांच पडताल
चित्र
पत्नी द्वारा लगाए गए आरोप को पति ने बताया मनगढ़ंत कहानी
चित्र
पत्नी के नाम खरीदी प्रॉपर्टी पर परिवार का भी हक, मकान-जमीन रजिस्ट्री कराने से पहले जान लें HC का फैसला
चित्र