जीत के करीब जो बाइडेन, उनका अमेरिकी राष्‍ट्रपति बनना भारत के लिए अच्‍छा या बुरा

जीत के करीब जो बाइडेन, उनका अमेरिकी राष्‍ट्रपति बनना भारत के लिए अच्‍छा या बुरा?


(न्यूज़)।अमेरिकी राष्‍ट्रपति के चुनाव में डेमोक्रेटिक उम्‍मीदवार जो बाइडेन अपने रिपब्लिकन प्रतिद्वंदी और वर्तमान राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप पर जीत दर्ज करते दिख रहे हैं। अभी तक के रुझानों में बाइडेन को 264 और ट्रंप को 214 इलेक्‍टोरल वोट्स मिले हैं। बहुमत के लिए 270 इलेक्‍टोरल वोट्स चाहिए।
जीत के करीब जो बाइडेन, उनका अमेरिकी राष्‍ट्रपति बनना भारत के लिए अच्‍छा या बुरा?
अमेरिका को नया राष्‍ट्रपति मिलने जा रहा है। वोटों की गिनती अभी जारी है लेकिन जो बाइडेन ने डोनाल्‍ड ट्रंप पर 50 इलेक्‍टोरल वोट्स की बढ़त ले रखी है। यह अंतर अब पट पाना अब मुश्किल है। यह लगभग तय हो गया है कि वाइट हाउस में अब बाइडेन की एंट्री होगी और कमला हैरिस उनकी डेप्‍युटी होंगी। भारत के लिहाज से अमेरिकी राष्‍ट्रपति का चुनाव बेहद अहम है क्‍योंकि हाल के दिनों में अमेरिका के साथ उसका सहयोग काफी बढ़ा है। चीन के साथ लद्दाख सीमा पर तनाव ने भारत और अमेरिका को और करीब ला दिया है। तनाव की स्थिति अब भी बरकरार है, ऐसे में नए राष्‍ट्रपति का रुख कैसा रहता है, यह देखने वाली बात होगी। बाइडेन का अमेरिकी राष्‍ट्रपति बनना भारत के लिए अच्‍छा है या बुरा, इसके कुछ संकेत पिछले दिनों मिले हैं।
कुछ बयानों से नहीं चलेगा बाइडेन और कमला के इरादों का पता-
भारत में एक धड़ा मानता है कि बाइडेन और हैरिस जिस तरह से जम्‍मू कश्‍मीर में मानवाधिकार और एनआरसी-सीएए को लेकर मुखर रहे हैं, उससे भारत को परेशानी हो सकती है। लेकिन कुछ बयानों के आधार पर दोनों को जज करना सही नहीं होगा। बाइडेन दशकों तक फॉरेन पॉलिसी से जुड़े मुद्दों पर काम करते रहे हैं। उन्‍हें बेहतर अंदाजा है कि अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर कौन से मुद्दे अहम हैं। एक्‍सपर्ट्स के अनुसार, बाइडेन और ट्रंप में बुनियादी फर्क यह है कि बाइडेन दूरदर्शी हैं और ट्रंप बड़बोले। टाइम्‍स ऑफ इंडिया में छपे एक लेख में अमेरिकी प्रोफेसर सुमित गांगुली लिखते हैं क‍ि मोदी के साथ बेहतर तालमेल के बावजूद ट्रंप ने कई मौकों पर भारत को बड़े झटके दिए हैं। उनके मुताबिक, बाइडेन सोच-समझकर फैसला करने वालों में से हैं, ऐसे में वह भारत के लिए ज्‍यादा मुफीद हैं।
बाइडेन के राष्‍ट्रपति बनने से बेहतर होंगे भारत-अमेरिका के रिश्‍ते!
गांगुली अपने लेख में कहते हैं कि ट्रंप ने जिस तरह से अचानक और अजीब तरह के फैसले किए, उससे भारत के लिए उनका कार्यकाल उतना फलदायी साबित नहीं हुआ। गांगुली ने भारतीय उत्‍पादों पर टैरिफ बढ़ाने, H-1B वीजा रोकने, कश्‍मीर मुद्दे पर मध्‍यस्‍थता के ऑफर जैसे ट्रंप के कुछ ऐसे फैसले गिनाए जिनसे भारत को नुकसान हुआ। गांगुली कहते हैं कि ट्रंप की नजर में भारत और अमेरिका के रिश्‍ते पूरी तरह लेन-देन पर आधारित हैं। बाइडेन की सोच ऐसी नहीं हैं। गांगुली के अनुसार, बाइडेन की विदेश नीति में ट्रंप के मुकाबले कहीं ज्‍यादा स्‍थायित्‍व देखने को मिलेगा। उदाहरण के दौर पर, भारत को सिर्फ यह जानकारी देने कि अफगानिस्‍तान से अमेरिकी सैनिकों को हटाया जा रहा है, अमेरिका उस देश को स्थिर करने के लिए भारत की मदद मांग सकता है। बतौर राष्‍ट्रपति बाइडेन के उन मामलों में टांग अड़ाने की संभावना कम ही है जो राजनीतिक रूप से किसी माइनफील्‍ड की तरह हैं।


बाइडेन नहीं बदलेंगे भारत के प्रति अमेरिका की नीति-


बाइडेन के भारत-पाकिस्‍तान विवाद या चीन के साथ जारी तनाव में ज्‍यादा दखल देने की उम्‍मीद कम ही है। वह कई दशक तक अमेरिकी विदेश विभाग के लिए काम कर चुके हैं। इसके अलावा ट्रंप से अलग, वह अपने सलाहकारों की बात सुनने के लिए जाने जाते हैं। बाइडेन किसी एक घटना या मुद्दे के आधार पर भारत के प्रति अमेरिकी नीति में बदलाव लाने के इच्‍छुक नहीं दिखते। इसके अलावा प्रवासियों को लेकर भी बाइडेन का रुख नरम है जबकि ट्रंप कई मौकों पर खुलकर वीजा पर लिमिट लगाने की बात कर चुके हैं। ट्रंप ने भारत के साथ व्‍यापारिक स्‍तर पर धींगामुश्‍ती जारी रखी। बाइडेन के ऐसा करने की उम्‍मीद कम है।


Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र