कड़ाके की ठंड में 11 घंटे नाली में पड़ी रही नवजात, फिर सामने आई करुणा और कशमकश की दास्तान

 कड़ाके की ठंड में 11 घंटे नाली में पड़ी रही नवजात, फिर सामने आई करुणा और कशमकश की दास्तान



(न्यूज़)।समाज में बदनामी के डर से एक बिन ब्याही मां ने पैदा हुई अपनी बच्ची को कपड़े में लपेटकर नाली में फेंक दिया। मासूम कड़कड़ाती ठंड में 11 घंटे तक पड़ी रही। अगले दिन एक युवती की उस पर नजर पड़ी तो उसने देखा कि बच्ची हिलडुल रही थी। फौरन युवती अपनी सहेली की मदद से उसे नजदीकी निजी अस्पताल ले गई, जहां से उसे चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय में भर्ती कराया, जहां उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है।

बच्ची को जान बचाने वाली युवती अपनी बहन के लिए मासूम को अब गोद लेना चाहती है। पुलिस ने सीसीटीवी से बच्ची की असली मां की पहचान कर ली है जो बच्ची को स्वीकार करने को तैयार नहीं है। मामले सीडब्ल्यूसी के पास है।

पुलिस के मुताबिक काजल (25) (बदला हुआ नाम) परिवार के साथ पांडव नगर में रहती है। वह प्राइवेट नौकरी करती है। 13 दिसंबर को सुबह 9.45 बजे वह घर से दफ्तर के लिए निकली। रास्ते में उसने देखा कि कुछ लोग नाली की ओर देखकर इधर-उधर की बात कर रहे थे। काजल ने भी देखा तो वहां नाली में एक कपड़े में लिपटा किसी बच्चे का पैर दिख रहा था। फौरन काजल आगे बढ़ी तो देखा कि उसमें हरकत भी हो रही है।  काजल ने बच्चे को उठाया और अपनी सहेली को कॉल किया। बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों का कहना था कि पैदा होने के बाद बच्ची को कुछ भी नहीं खिलाया गया। इसके अलावा उसे  ठंड भी लगी हुई थी, लेकिन हैरत की बात यह थी कि 11 घंटे नाली में पड़ी रहने के बाद वह जिंदा कैसे थी।

मामले की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची। वहां की सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई तो पता चला कि देर रात को पड़ोस की एक युवती ने उसे नाली में फेंका था। युवती से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि वह बिना शादी के ही गर्भवती हो गई थी। 13 दिसंबर की रात को उसने अपने घर के बाथरूम में बच्ची को जन्म दिया। इसके बाद दुनिया के डर से उसने बच्ची को एक कपड़े में लपेटकर नाली में फेंक दिया। चाइल्ड वेलफेयर कमेटी मामले की जांच कर रही है। फिलहाल बच्ची की मां उसे स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र