संतान की मौत पर माता-पिता मुआवजे के अधिकार

 संतान की मौत पर माता-पिता मुआवजे के अधिकार



न्यूज़।दिल्ली हाईकोर्ट ने एक अहम फैसले में कहा है कि सड़क हादसे में अपनी संतान खोने वाले माता-पिता भी मुआवजा पाने के हकदार हैं।उन्हें मुआवजा देने से इनकार करना न्याय विरुद्ध होगा। जस्टिस जे आर मिधा की पीठ ने अपने फैसले में कहा कि प्रत्येक माता-पिता एक समय औलाद पर निर्भर होते हैं। ऐसे में उनके भविष्य को देखते हुए उन्हें मुआवजा देने से इनकार नहीं किया जा सकता। पीठ कि यह टिप्पणी एक महिला को उसके 23 वर्षीय बेटे की सड़क हादसे में 2008 में हुई मौत के मामले में आई है। पीठ ने महिला को मिलने वाले छह लाख 80 हजार रुपए के मुआवजा राशि में दो लाख 42 हजार रुपए बढ़ाने के आदेश दिए हैं। इस मामले में निचली अदालत ने वर्तमान आय के आधार पर मुआवजा तय किया था। कोर्ट का कहना था कि परिजन खुद कमाते हैं इसीलिए वह बेटे पर आत्मनिर्भर नहीं थे इस निर्णय को पीड़ित परिवार ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।हाईकोर्ट ने माना कि बेशक घटना के समय परिजन औलाद पर निर्भर ना हो,पर बुढ़ापे में वे भी बच्चों पर निर्भर होते हैं।