एक मार्च से चलेगा विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान

 एक मार्च से चलेगा विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान


डेंगू व मलेरिया के प्रति जागरूक करेंगी आशा

फतेहपुर। कोविड - 19 टीकाकरण के बीच स्वास्थ्य विभाग ने विशेष संचारी रोग नियंत्रण माह और दस्तक अभियान के लिये कमर कस ली है। जिले में संचारी रोग नियंत्रण माह एक मार्च से 31 मार्च 2021 तक चलाया जायेगा जो इस वर्ष का प्रथम चरण है। संचारी रोग नियंत्रण माह की पूरी तैयारी कर ली गई है। अन्य विभाग कें बीच आपसी समन्वय स्थापित कर अभियान को सफल बनाने का प्रयास किया जा रहा है। 

सीएमओ डा0 गोपाल कुमार माहेश्वरी ने बताया कि जनपद में संचारी रोग नियंत्रण माह के अंतर्गत 10 मार्च से 24 मार्च तक दस्तक अभियान चलेगा। उन्होंने बताया दस्तक अभियान में शारीरिक दूरी, हाथों की धुलाई और मास्क की अनिवार्यता पर विशेष ध्यान दिया जाएगा ताकि स्वास्थ्य कार्यकर्ता  सावधानी रखते हुए लोगों  को मलेरिया एवं कोरोना से बचाव के बारे में बेहतर तरीके से जागरूक कर सकें। अभियान में चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग, ग्राम्य  विकास एवं पंचायती राज विभाग, शिक्षा एवं नगर निगम, कृषि विभाग, पशु पालन विभाग आदि का पूर्ण सहयोग होगा।  

वेक्टर बार्न डिजीज के नोडल अधिकारी डॉ केके श्रीवास्तव ने बताया कि दस्तक अभियान के दौरान प्रशिक्षित आशा कार्यकर्ता तथा आंगनबाड़ी द्वारा घर घर जाकर लोगो को संचारी रोगों से बचाव के उपाय, लक्षण एवं निकटतम स्वास्थ्य केंद्र के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई जायेगी। इस दौरान आशा कार्यकर्ताओं द्वारा दिमागी बुखार के लक्षणों एवं उपचार के विषय में समुदाय को जागरूक किया जाएगा। आशा  द्वारा घरो के अंदर प्रवेश कर मच्छरों के पैदा होने वाली परिस्थितियों का निरीक्षण किया जाएगा। मलेरिया जाँच में भी आशा कार्यकर्ताओं द्वारा सहयोग किया जाएगा। साथ ही कोविड 19 रोग के प्रसार की स्थिति के चलते कई बच्चे टीकाकरण से वंचित रह गए हैं ऐसे वंचित बच्चो की सूची भी आशा कार्यकर्ताओं द्वारा गृह  भ्रमण के दौरान तैयार की जायेगी।

जिला मलेरिया अधिकारी (डीएमओ) आनंद कुमार ने  बताया  कि इस चरण में आशा कार्यकर्ता द्वारा बुखार के अतिरिक्त खांसी तथा सांस लेने में दिक्कत या परेशानी की शिकायत वाले रोगियों को भी चिन्हित किया जाएगा तथा  उन्हें  कोविड जांच हेतु संदर्भित करेंगी द्य साथ ही इस दौरान टीबी रोगियों की खोज, जन्म मृत्यु पंजीकरण और कुपोषित बच्चों की सूची भी आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ता द्वारा बनाई जाएगी द्य  मिलेगी प्रोत्साहन राशि डीएमओ ने बताया आशा कार्यकर्ता द्वारा प्रत्येक मलेरिया रोगी की स्लाईड अथवा रैपिड डायग्नोस्टिक  किट से जांच कराने पर 15 रुपए का भुगतान किया जाएगा। यदि व्यक्ति मलेरिया धनात्मक रोगी है तो आमूल उपचार पूर्ण करने तथा तीसरे, सातवें एवं चैदह दिन पर रोगी का फॉलोअप पूर्ण करने पर 75 रूपए का भुगतान किया जाएगा। बुखार के रोगी में डेंगू कन्फर्म होने पर 200 रूपए का भुगतान तथा जापानी इन्सेफेलाइटिस रोगी के कंफर्म होने पर 250 रूपए का भुगतान आशा कार्यकर्ता को किया जाएगा।