हक की बात जिलाधिकारी के साथ वेबनार में महिलाओं ने पूछे सवाल

 हक की बात जिलाधिकारी के साथ वेबनार में महिलाओं ने पूछे सवाल



यौन हिंसा, लैंगिक समानता, घरेलू हिंसा कन्या भ्रूण हत्या आदि मुददों पर हुई चर्चा 


फतेहपुर। शासन के निर्देश पर जिले में हक की बात जिलाधिकारी के साथ कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें महिलाओं ने वेबनार के माध्यम से डीएम अपूर्वा दुबे से यौन हिंसा, लैंगिक समानता, घरेलू हिंसा कन्या भ्रूण हत्या आदि मुददों पर सवार पूछे जिनका जिलाधिकारी और पैनल में मौजूद अधिकारियों ने जवाब देकर संतुष्ट किया। 

बुधवार को कलेक्ट्रेट स्थित एनआईसी में वेबनार आयोजित किया गया। वेबनार में डीएम अपूर्वा दुबे, जिला प्रोबेशन अधिकारी राजेश सोनकर, जिला समाज कल्याण अधिकारी केएस मिश्रा, वन स्टाप सेंटर मैनेजर मोहिनी साहू मौजूद रहीं। वेबनार में अलग अलग स्कूलों की शिक्षिकायें, प्रधानाचार्या, आंगनबाडी कार्यकर्ता, नर्स एवं महिलाओं ने प्रतिभाग किया। एक शिक्षिका ने पाक्सो ऐक्ट क्या है और इसमें सजा का क्या प्राविधान है सवाल पूछा जिसका जिला प्राबेशन अधिकारी राजेश सोनकर जवाब दिया। इसी प्रकार एक अन्य महिला ने भ्रूण हत्या को रोकने के लिये सरकार क्या ठोस कदम उठा रही है इसकी जानकारी पूछी जिसके बारे में जिलाधिकारी ने विस्तार से बताया। डीएम ने वेबनार में शामिल महिलाओं और महिला कर्मचारियों का हौसला बढाया। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर महिलाओं को आगे बढने के लिये कई योजनायें चलाई जा रही है। इसके साथ ही महिला हिंसा रोकने और महिलाओं को उनका हक दिलाने के लिये कडे कानून बने है। उन्होंने कहा कि किसी भी महिला कोई दिक्कत है या उसका उत्पीडन हो रहा है तो वह सीधे मुझसे मिल सकती है पूरा न्याय दिलाया जायेगा। जनता दरबार, ड्राप बाक्स, आईजीआरएस के माध्यम से भी शिकायत कर सकते है। इस दौरान वन स्टाप सेंटर से मधुरिमा शंखवार, प्रतिमा देवी स्टाफ नर्स, प्रेमा देवी मौजूद रहीं।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र