जिला पंचायत की अवैध वसूली पर रोक लगाने पर शासन हो रहा नाकाम

 जिला पंचायत की अवैध वसूली पर रोक लगाने पर शासन हो रहा नाकाम


फ़तेहपुर।

जनपद में अवैध वसूली इस समय अपनी चरम सीमा पर है और प्रशासन इनके आगे रोक लगाने मे बौना साबित हो रहा है और यह लोग धड़ल्ले से अवैध वसूली का कार्य कर रहे हैं ।

ताजा मामला फतेहपुर जनपद के किशनपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत गढ़ीवा मझिगवां मोरम खदान का है जहां पर जिला पंचायत के नाम पर धड़ल्ले से अवैध वसूली का कार्य किया जाता है जानकारी के मुताबिक किशनपुर थाना क्षेत्र के बहुचर्चित मोरम खदान मझगवां व गढीवा जिला पंचायत का बैरियर लगाकर पुराने आदेश दिखाकर हर वाहन से ₹100 से लगाकर ₹200 तक की अवैध वसूली का कार्य किया जा रहा है और जिम्मेदारों द्वारा इन पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है जिससे इनके हौसले और भी बुलंद होते चले जा रहे हैं जानकारी के मुताबिक क्षेत्र के ही रहने वाले एक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल में भी ऑनलाइन शिकायत दर्ज करा चुके हैं शिकायत दर्ज कराते हुए शिकायतकर्ता ने बताया कि उसके मोरम खदान के रास्ते पर वाहनों से जिला पंचायत की 2018 की पुरानी रसीद द्वारा ट्रैक्टर से 50 और ट्रक से ₹200 की अवैध वसूली की जा रही है जबकि जिला पंचायत के नाम पर कोई भी टेंडर प्रस्तावित नहीं हुआ है शिकायतकर्ता ने शिकायत करते हुए तत्काल बंद कराने की मांग की थी पर अभी भी जिला पंचायत के बैरियर के नाम पर अवैध तरीके से हो रही वसूली पर रोक लगाने पर शासन व प्रशासन बौना साबित हो रहा है जिससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह अवैध वसूली का कार्य किसी विभागीय अधिकारी के संरक्षण में हो रहा है जिला पंचायत की अवैध वसूली पर किस जिम्मेदार का संरक्षण प्राप्त है या तो स्पष्ट नहीं किया जा सकता लेकिन यह बात तो स्पष्ट है कि कहीं ना कहीं इन पर किसी जिम्मेदार का संरक्षण है जिसके दम पर यह लोग अवैध वसूली कर रहे हैं ।

Popular posts
रेलवे ने दी गुड न्‍यूज, 15 अक्‍टूबर से चलेंगी 200 से ज्‍यादा नई स्‍पेशल ट्रेनें
चित्र
छोटे बच्चों को गांजा पिलाकर बर्बाद करने में उतारू संत
चित्र
पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने अंतोदय के सिद्धांत पर पूरे जीवन कार्य किया---- बीजेपी युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष
चित्र
*26 जुलाई कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को किया गया याद*
चित्र
उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव: एक-एक गांव के आरक्षण चार्ट के लिए अभी करना होगा इंतजार,पहले अफसरों को मिलेगी ट्रेनिंग
चित्र