अलौकिक थी ध्रुव जी की भक्ति :अशोक द्विवेदी

 अलौकिक थी ध्रुव जी की भक्ति :अशोक द्विवेदी 


 

जहानाबाद (फतेहपुर)। चांदपुर ग्राम पंचायत की सिद्ध माता फूलमती आश्रम में चल रही श्रीमद्भागवत कथा मैं कथा व्यास पंडित अशोक द्विवेदी ने भक्तों को ध्रुव चरित्र सुना कर भाव विभोर कर दिया। कथा व्यास ने आश्रम परिसर में आए हुए श्रद्धालु भक्त गणों को 5 वर्ष के बालक ध्रुव की पावन कथा श्रवण कराई जिसमें ध्रुव की माता सुरुचि एवं सुनीति का चरित्र भक्तों के ह्रदय को तार-तार कर गया| उन्होंने बताया कि 5 वर्ष के बालक ध्रुव ने अपनी तपस्या के बल पर ईश्वर की प्राप्ति की तथा आकाश मंडल पर देदीप्यमान तारे के रूप में आज भी प्रकाशित हो रहा है| इसके उपरांत अनेक कथाओं को श्रवण कराते हुए कथा व्यास अशोक द्विवेदी ने राजा बलि की पावन कथा भक्तों को श्रवण कराई| जिसमें भगवान विष्णु ने वामन अवतार लेकर राजा बलि की परीक्षा ली तथा इस परीक्षा में राजा बलि उत्तीर्ण हुए| वामन अवतार रूपी भगवान विष्णु ने ढाई पग जगह राजा बलि से दान में मांगी जिसमें उन्होंने ढाई पग में ही सर्वस्व नाप लिया कुछ जगह शेष बची जो राजा बलि ने अपने शीश पर भी दी| ऐसे दानवीर राजाओं की गाथा भक्तों के हृदय को भावविभोर करती रही। इस मौके पर आयोजक राम किशोर सिंह रवि सिंह गौड़ा सुनील सिंह भोले अमित सहित समस्त चांदपुर वासी भक्तगण उपस्थित रहे।