अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद दिव्यांग कल्याण समिति के प्रबंधक ने विकलांग पेंशन ₹3000 प्रति की मांग की

 अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद दिव्यांग कल्याण समिति के प्रबंधक ने विकलांग पेंशन ₹3000 प्रति की मांग की



जिन जिन विकलांगों के कच्चे मकान ढह गए हैं सरकार उनको जल्दी मुआवजा दे: जीतेंद्र मिश्रा अष्टावक्र


गिरिराज शुक्ला


बिंदकी फतेहपुर।अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद दिव्यांग कल्याण समिति की हुई बैठक में सर्वसम्मति से विकलांग पेंशन ₹3000 प्रतिमाह करने की मांग की गई कहा गया कि दिव्यांगों द्वारा बार-बार पेंशन बढ़ाने की मांग की जा रही है लेकिन अभी तक शासन प्रशासन इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है

रविवार को नगर के राजकीय बस स्टॉप परिसर में अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद दिव्यांग कल्याण समिति की एक बैठक हुई जिसमें बैठक को संबोधित करते हुए अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद दिव्यांग कल्याण समिति के अध्यक्ष जितेंद्र मिश्र उर्फ अष्टावक्र ने कहा कि वर्तमान समय में विकलांगों को महज ₹500 प्रति माह मासिक पेंशन मिल रही है इतनी कम पेंशन पर्याप्त नहीं है विकलांग परेशान है महंगाई चरम सीमा पर है इसलिए कम से कम ₹3000 प्रतिमाह पेंशन की जाए इसके अलावा बैठक में रोडवेज बस स्टॉप के जीर्णोद्धार की मांग की गई कहा गया कि जर्जर बगीचा पर कोई सुविधा नहीं है इसलिए जल्दी इसका जीर्णोद्धार कराया जाए इसके अलावा नगर की जर्जर सड़क के मरम्मत ई करण की मांग की गई कहा गया है कि जर्जर सड़क के कारण लोगों का पैदल निकलना मुश्किल है खासकर दिव्यांग लोग सड़क से नहीं चल पा रहे हैं इतना ही नहीं मांग की गई कि बरसात के कारण जो भी कच्चे घर गिरे हैं खासकर दिव्यांगों को जल्द आवास मुहैया कराए जाएं इसके अलावा 11 वर्ष से अधूरे पड़े बिंदकी बाईपास को जल्द बनवाने की मांग की गई इस बैठक में अमर शहीद दिव्यांग कल्याण समिति के पदाधिकारी आरती गुप्ता किशनपाल रामबाबू सूर्य कुमार मिश्र दिनेश विश्वकर्मा सीटू लाल मौर्य अमन तिवारी सुनील गुप्ता सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

Popular posts
पान मसाला विक्रेता के दुकान गोदाम में एसआईबी जीएसटी टीम का छापा
चित्र
राजस्व वसूली एवं सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने वाले के विरुद्ध दर्ज हुई एफ आई आर
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
एन्टी रोमियो टीमों ने चलाया चेकिंग अभियान
चित्र
कम होने का नाम नहीं ले रही हैं चेयरमैन प्रतिनिधि की मुश्किलें
चित्र