रीजेंसी हेल्थ एक्सपर्ट की सलाह प्रोटीन, कैल्सियम व विटामिन डी युक्त आहार लें बुजुर्ग

 रीजेंसी हेल्थ एक्सपर्ट की सलाह प्रोटीन, कैल्सियम व विटामिन डी युक्त आहार लें बुजुर्ग



लखनऊ।विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, वृद्ध लोगों को होने वाली अधिकांश बीमारियां उचित खानपान और एक्सरसाइज की कमी के कारण होती हैं। केवल स्मार्ट और बेहतर लाइफस्टाइल से ही वरिष्ठ नागरिकों में डायबिटीज, हार्ट की बीमारी और कुछ कैंसर जैसी कुछ स्वास्थ्य समस्याओं को रोका जा सकता है।  हालाँकि हम अपने वृद्ध नागरिकों के स्वास्थ्य को ऐसे समय में भी नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते हैं जब भारत की बुजुर्ग आबादी अगले दशक में 41% बढ़ने का अनुमान है। नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस (NSO) की एल्डरली इन इंडिया 2021 रिपोर्ट के अनुसार भारत की वृद्ध जनसंख्या (60 वर्ष और उससे अधिक आयु के) के 2031 में 194 मिलियन का आंकड़ा छूने का अनुमान है, 2021 में वृद्ध लोगों का यह आंकड़ा 138 मिलियन है।

इसका मतलब है कि स्वास्थ्य क्षेत्र को वृद्ध लोगों की बढ़ती जनसँख्या की चुनौती या बीमारी के अतिरिक्त बोझ से निपटने के लिए पहले से ही तैयार रहना होगा। इसलिए स्वस्थ तरीके से उम्र बढ़ने में पोषण की एक बड़ी भूमिका होती है और रीजेंसी हॉस्पिटल लखनऊ के एक्सपर्ट्स  के अनुसार नियमित एक्सरसाइज के साथ विटामिन, मिनिरल, प्रोटीन और कैल्शियम जैसे आवश्यक पोषक तत्व बुजुर्गों के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकते हैं। फलों, सब्जियों, डेयरी और हल्के मांस से भरपूर डाइट खाने से वृद्ध लोगों के लिए सूक्ष्म पोषक तत्वों के सेवन में आसानी से मदद कर सकते है। फलों और सब्जियों में एंटीऑक्सिडेंट और कैंसर विरोधी फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो कई प्रकार के कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं।

रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, लखनऊ के सीनियर कंसल्टेंट और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ऑन्कोलॉजी सर्जन डॉ प्रदीप जोशी जी ने इस पर अपनी राय रखते हुए कहा, "डेमेंटिया, पार्किंसंस की बीमारी, स्ट्रोक और डिप्रेशन जैसी कुछ सामान्य बीमारियां हैं जो वृद्ध लोगों के मस्तिष्क को प्रभावित करती हैं और इससे उनमे जीवन की गुणवत्ता पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। जबकि विटामिन डी कम होने का भी ख़तरा रहता है। कैल्शियम युक्त डाइट न खाने से वृद्ध लोगों में ऑस्टियोपोरोसिस जैसे हड्डियों से संबंधित समस्याएं हो सकती है। इसी तरह, मांसपेशियों और ताकत को बनाए रखने के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी है, प्रोटीन उम्र बढ़ने के साथ शरीर में कम होती जाती है। हमारे पास रीजेंसी लखनऊ में डॉक्टरों की एक समर्पित टीम है जो सभी वृद्ध मरीजों को उनकी उम्र में इस तरह की बीमारी को रोकने के लिए पोषक तत्वों से भरपूर डाईट खाने की सलाह देती है। डॉक्टरों ने पाया है कि इस तरह की समस्या से पीड़ित मरीजों को पोषण और एक्सरसाइज से सम्बंधित कंसल्टेशन देने के बाद  उचित पोषण या एक्सरसाइज की कमी के कारण के होने वाली बीमारियों से पीड़ित बुजुर्ग मरीजों में अच्छी खासी कमी आई है। इसके अलावा चलने और योग जैसी सरल एक्सरसाइज भी मूड और सम्पूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रख सकते हैं। हम समझते हैं कि कुछ वृद्ध लोगों के लिए चलना मुश्किल हो सकता है, इसलिए एक हेल्थकेयर प्रोफेसनल उनके लिए सबसे अच्छी कारगर एक्सरसाइज योजना बनाने में उनकी मदद कर सकता है।"

रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, लखनऊ के कंसल्टेंट और गैस्ट्रोएंटरोलॉजी डॉ प्रवीण झा जी ने आगे कहा, “फलों, सब्जियों, डेयरी और हल्के मांस वाली डाइट खाने से बुजुर्ग लोगो के लिए सूक्ष्म पोषक तत्वों के सेवन में आसानी से मदद मिल सकता है। फलों और सब्जियों में एंटीऑक्सिडेंट और कैंसर रोधी फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो कई प्रकार के कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं।”

बेहतर पोषण बुजुर्गों में इम्युनिटी को मजबूत बनाता है। कोविड की तीसरी लहर आने की सम्भावना के बीच वृद्ध लोगों के लिए मजबूत इम्युनिटी बहुत जरूरी हो गयी है। हालांकि 2021 की एनएसओ रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश उन तीन राज्यों में शामिल है जहां सबसे कम बुजुर्ग आबादी (8.1) प्रतिशत है, वरिष्ठ नागरिकों को हर कीमत पर स्वास्थ्य समस्याओं से बचाने की जरूरत है। अन्य दो राज्यों में जहाँ सबसे उत्तर प्रदेश के बाद सबसे कम बुजुर्गों का अनुपात है उसमे  बिहार (7.7 प्रतिशत) और असम (8.2 प्रतिशत) है। ओआरएफ के कोविड वैक्सीन ट्रैकर के अनुसार टीकाकरण के 27 अगस्त तक डेटा उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार और पश्चिम बंगाल सहित राज्यों ने वरिष्ठ नागरिकों (60 वर्ष या इससे ऊपर) में प्रति 1,000 जनसंख्या पर कम कोविड टीकाकरण दर दिखाई दी है। यह कमी आने वाली तीसरी लहर के लिए एक बहुत बड़ी चुनौती बन सकती है। इसलिए जरूरी है कि  बुजुर्गों की इम्युनिटी मजबूत हो और उनका मेटाबोलिज्म बढ़े। यह सब अच्छे पोषण और एक्सरसाइज से ही संभव है।

Popular posts
जिले में महिलाओं के हत्या युक्त अज्ञात शव मिलने का नहीं थम रहा सिलसिला 3 दिन पहले मिली थी हत्या युक्त महिला का शव अभी तक नहीं हुई कोई शिनाख्त
चित्र
योगी सरकार ने छात्रवृत्ति का बदला नियम, जानिए पैसे लेने के लिए करना होगा क्या नया काम
चित्र
प्रेम प्रसंग के चलते प्रेमी युगल हुए एक दूजे के
चित्र
15 हजार से कमाई कम तो मिलेगा बीमा और आयुष्मान कार्ड का लाभ, करना होगा यह काम
चित्र
दिल्ली के निर्भया कांड में आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने वाली देश की चर्चित अधिवक्ता सीमा समृद्धि लड़े गीं कानपुर की निर्भया का केस
चित्र