मेरे शिक्षक , हैं गुरु मेरे,

 "मेरे शिक्षक"



मेरे शिक्षक ,  हैं गुरु मेरे, 

               सम कोटि सूर्य दैदीप्यमान  l

नभ के तारा मंडल के मध्य, 

            हैं चाँद सदृश आभायमान l

मंथर- मंथर शीतल वायु, 

             के सदृश सतत् चलायमान l

धीरज संग धरती के सदृश, 

              गंभीर सतत् हैं गतिमान l

सम सागर के अंतस्थल में l

               हैं रत्न समाहित मुल्यवान l

जीवन के समिधा वेदी पर, 

                बन कर्मवीर हैं उर्जावान l

हो दूर स्वार्थ और लोभ अनृत से, 

                 कर रहे कर्म बन धैर्यवान l

सब त्याग दिया सुख निजता को, 

              संतति हिताय बन शौर्यवान l

हे पिता मेरे! मेरी माता , 

             चरणों में तव अगणित गाथा l

जीवन में, तुम्हारा ऋण मुझपर, 

             करती हूँ तुम्हारा गौरव गान l

नत मस्तक हो रवि-  रश्मि , 

             रखेगी तुम्हारा सदा ही मान l

हे पिता मेरे  ! मेरी माता  !, 

              सम कोटि सूर्य दैदीप्यमान l

रश्मि पाण्डेय

Popular posts
सहारा इंडिया कार्यकर्ता पुलिस अधीक्षक से मिले, पैसा दिलाने की मांग
चित्र
जिंदा हूँ तो जी लेने दो, चलती राहों में भी पी लेने दो.....ड्यूटी में भी पी लेने दो।
चित्र
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
मुख्यमंत्री के सपनों को चकनाचूर करने में जुटे हैं गाजीपुर थानाध्यक्ष व शाह चौकी प्रभारी
चित्र