हुसैनगंज इलाके में नही रुक रहा बालू का अवैध खनन,स्थानीय पुलिस की सह से बालू माफिया कर रहे है बालू खनन

 हुसैनगंज इलाके में नही रुक रहा बालू का अवैध खनन,स्थानीय पुलिस की सह से बालू माफिया कर रहे है बालू खनन



हुसैनगंज ( फतेहपुर)।रात के अंधेरे में बालू माफिया जेसीबी लगा कर गंगा नदी के किनारे से निकाल रहा है बालू,बालू माफिया राज्य सरकार को लगा चुका है लाखों की चपत।

बालू माफिया भिटौरा ब्लॉक का मौजूदा ग्राम प्रधान भी है,काफी अर्से से कर रहा है बालू की अवैध बिक्री,स्थानीय ईंट भट्ठों में भी होती है बालू की सप्लाई।

हुसैनगंज क्षेत्र में बालू का अवैध खनन रुकने का नाम नहीं ले रहा है,काफी अर्से से जमरावा इलाके के गंगा नदी के किनारे बड़े पैमाने पर बालू का खनन कर बिक्री की जा रही है।बारामील के समीप रहने वाला बालू माफिया काफी अर्से से बालू के कारोबार में लिप्त है,स्थानीय पुलिस की मिली भगत के चलते बालू माफिया पर कार्यवाही नहीं की जा रही है,बालू का कारोबार करने वाला माफिया भिटौरा ब्लॉक का मौजूदा ग्राम प्रधान भी है।जो इस व्यवसाय में काफी अर्से से लिप्त है। बारामील क्षेत्र के गंगा नदी किनारे स्थित भरसरी गांव के समीप से रात के अंधेरे में माफिया जेसीबी व ट्रैक्टर लगा कर बालू निकालते हैं।खनन माफिया के पास न तो परमीशन और न ही रवन्ना,गंगा नदी से मुफ्त की बालू निकाल कर राज्य सरकार को चुना लगाकर अपनी जेब भर रहा है।सफेद बालू की स्थानीय ईंट भट्ठों में भी बिक्री की जाती है।इसके अलावा सीसी रोड, व इंटरलॉकिंग सड़क बनाने के कार्य में भी बालू का उपयोग होता है।जानकार सूत्र बताते हैं कि 3 हजार से 3500 रुपए प्रति ट्राली की दर से बालू को बेंचा जा रहा है।इधर दो दिन से बालू माफिया हुसैनगंज कस्बे में डलमऊ मार्ग से लेकर सी एच सी के आगे तक बन रहे इंटरलॉकिंग मार्ग में बालू की सप्लाई रात के अंधेरे में कर रहा है।बालू माफिया पर कार्यवाही न होने से राज्य सरकार को लाखो की चपत लगाई जा रही है।