पाल सामुदायिक उत्थान समिति की बैठक कैंप कार्यालय में संपन्न

 पाल सामुदायिक उत्थान समिति की बैठक कैंप कार्यालय में संपन्न



फतेहपुर।पाल सामुदायिक  उत्थान समिति की बैठक कैंप कार्यालय जेल रोड़ फतेहपुर में समिति के अध्यक्ष डॉ अमित पाल की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में पदाधिकारियों ने संगठन को न्याय पंचायत एवं बूथ स्तर तक ले जाने तथा समाज के उत्थान के लिए शैक्षणिक, आर्थिक,एवं राजनीतिक विकास पर जोर देते हुए, समाज के ऊपर आए दिन हो रहे अन्याय अत्याचार के खिलाफ संगठन शक्ति के साथ मुकाबला करने पर जोर दिया। आने वाले विधान सभा चुनाव में समाज की भागीदारी सुनिश्चित करने वाली पार्टी का समर्थन बिना क्षेत्र जाति एवं धर्म को देखे समाज की वास्तविक, संविधानिक अधिकारों की लडाई लड़ने वाले प्रत्याशियों का समर्थन करने के लिए समाज मे जागृति फैलाने पर जोर दिया गया। साथ ही नगरपालिका क्षेत्र के विकास हेतु पालिका अध्यक्ष एवं उनके प्रतिनिधि हाजी रजा के नेतृत्व में हो रहे चौमुखी विकास, जो 74 सालों की आजादी में भी नहीं हो पाया था। जबकि लगभग सभी सरकारों में जनपद से मंत्री बनने का अवसर फतेहपुर को प्राप्त हुआ ,और विभिन्न लोग अलग-अलग दल से नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष भी बने। वर्तमान में भी जनपद से तीन मंत्री हैं। परंतु शहर के विकास के लिए हाजी रजा के नेत्रत्व में पालिका बोर्ड द्वारा बहुत से ऐतिहासिक काम किए जा रहे हैं ,चाहे वह महापुरुषों के नाम से चौराहों के सुंदरीकरण का काम हो, या डिवाइडर युक्त सड़कों का निर्माण, पार्कों का निर्माण, महापुरुषों के नाम पर स्वागत द्वारों का निर्माण, तिरंगा झंडे का निर्माण,क्षेत्र की साफ- सफाई, प्रकाश, पानी की समस्या का निराकरण, जिसके अंतर्गत समिति के  द्वारा दिये गये प्रस्ताव पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. ब्रजलाल पाल स्वागत द्वार एवं माता अहिल्याबाई होल्कर वाटिका का निर्माण भी किया गया है। इत्यादि कार्यों की प्रशंसा शहर के लिए ही नहीं पूरे जनपद मे लोगों के लिए चर्चा का विषय बना हुआ है। और हाजी रजा की लोकप्रियता निरंतर बढ़ती जा रही है। परंतु उनके द्वारा की गई मामूली मारपीट (जो वायरल वीडियो से पता चलता है)को सत्ता धारी नेताओं के दबाव में जिला प्रशासन द्वारा गलत तरीके से संगीन धाराओं में फंसाकर जेल भेजने का काम किया गया है, जिससे पुलिस प्रसाशन  के दबाव में काम करने के भी चर्चे जगह जगह हो रहे हैं। जो बहुत ही निंदनीय है ,और आने वाले चुनाव में इसका खामियाजा सत्तासीन पार्टी को जरूर उठाना पड़ेगा। पदाधिकारियों ने न्यायपालिका पर भरोसा जताते हुए ऐसे विकासशील नेता को बिना सत्ता के दबाव के वायरल फुटेज के आधार पर जो धाराएं बन रही उन धाराओं पर न्याय दिए जाने की आशा व्यक्त की। बैठक मे प्रमुख रूप से-

 सूरजभान पाल,अतुल पाल, दिनेश पाल, दिलीप पाल,वी के पाल, रामप्रताप पाल,रमा पाल, श्रीकांत पाल, डी. के. पाल, आर.के.पाल इत्यादि पदाधिकारी उपस्थित रहे।