बुंदेलखंड राष्ट्र समिति केंद्रीय अध्यक्ष ने बुंदेलखंड राज्य निर्माण की मांग की

 बुंदेलखंड  राष्ट्र  समिति केंद्रीय अध्यक्ष ने  बुंदेलखंड राज्य निर्माण की मांग की



 समिति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम अनुरोध पत्र अरविंद कुमार शर्मा (Ex IAS) को सौंपा


समिति ने मौरंग खदानों के संचालन में किसान हितों की अनदेखी की मांग उठाई


लखनऊ। लखनऊ डालीबाग में बुंदेलखंड राज्य निर्माण हेतु प्रधानमंत्री मोदी को खून से खत लिख चुके , बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के केंद्रीय अध्यक्ष प्रवीण पाण्डेय ने एक्स आई ए एस विधान परिषद उत्तर प्रदेश के सदस्य , भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष को पत्र सौंपा। जिसमे मोदी जी से  उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश के बंधन से  बुंदेलखंड को मुक्ति की मांग की गई ।अटल जी ने तीन राज्य बनाए, मोदी जी बुंदेलखंड  बनाएं। भाजपा हमेशा से छोटे राज्यों की पक्षधर रही है। अगर ऐसा न होता तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एक साथ तीन नये राज्य न बनाते।बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के केंद्रीय अध्यक्ष प्रवीण पाण्डेय ने किसानों के न्याय की भी मांग की प्रदेश में बरसात का सीजन समाप्त होने के बाद से ही मौरंग, बालू खदानों का संचालन शुरू हो जाता है। प्रति वर्ष की तरह ही इस बार भी फतेहपुर जनपद की अलग-अलग तहसीलों में मौरंग खदानों का संचालन शुरू हुआ। इस बार जो देखने को मिल रहा है, उसमे खदान संचालक किसानों का जबरदस्त उत्पीड़न कर रहे हैं। किशनपुर थाने के संगोलीपुर मड़इयन मौरंग खदान में 20 दिन के अंदर किसानों के साथ तीन बार मारपीट की घटना हो चुकी है। बीते 08 दिसंबर की रात फसल सिंचाई कर रहे किसानों को बंधक बनाकर खदान से आए गुर्गों ने पीटा। घायल किसानों का इलाज कराने की बजाय, उन्हें धमकी देकर चुप करा दिया गया। स्थानीय पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों की भूमिका भी संदिग्ध बनी रहती है। तहसील प्रशासन के अधिकारी खदान संचालकों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करने की बजाय, किसानों को ही डांट-डपटकर शांत करा देते हैं। 

जैसा कि आने वाले दिनों में विधान सभा चुनाव होने वाले हैं। केंद्र व प्रदेश सरकार अपनी निष्पक्ष, पारदर्शी कार्यप्रणाली के लिए प्रतिवद्ध है। ऐसे में किसानों के साथ होने वाली इस प्रकार की घटनाएं, सरकार की साख को प्रभावित कर रही है। बुंदेलखंड राष्ट्र समिति का केंद्रीय अध्यक्ष होने के नाते मै इस घटनाक्रम का प्रबल विरोध करता हूं। साथ ही आपसे निवेदन है कि फतेहपुर जनपद में संचालित मौरंग खदानों में किसान हित को ध्यान में रखते हुए संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करने की कृपा करें।