साजिशें हों चाहे जितनी,

 "आह्वाहन" 


साजिशें हों चाहे जितनी, 


                   कभी जीवन में न डरना l

कभी भी हार के भय से, 

                     नहीं पीछे कदम रखना l

अगर तुम सत्य के पथ हो, 

                     सदा शिव साथ तेरे हैं l

भले होवे जहाँ दुश्मन, 

               प्रबल तुम आत्मबल रखना l

कोई हो जंग जीवन की, 

               अकेले सर्वदा लड़ना l

कभी भी कायरों से तुम, 

                 कोई उम्मीद न करना l

अंधेरा छा रहा जग में, 

                  अंधेरे को मिटा देना l

कोई हो साथ या न हो, 

                     अंधेरे को भगा देना l

बड़े संघर्ष होते हैं, 

                   कर्म के पथ पर चलने में l

कभी डरकर अंधेरे से, 

                   नहीं ख़ुद को बदल देना l

रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर l

Popular posts
सदर कोतवाली के अंतर्गत राधा नगर चौकी क्षेत्र में "सीमा क्लीनिक" नाम का अदौली रोड में डॉक्टर ने गर्भपात करने की खोल रखी है मौत की दुकान
चित्र
पत्रकार की बाइक का बदौसा थानाध्यक्ष ने किया चालान पत्रकार ने पुलिस अधीक्षक को दिया लिखित शिकायत पत्र
चित्र
नगर पालिका बांदा की घोर लापरवाही आई सामने,
चित्र
लेखपाल की लापरवाही के चलते दबंग पूर्व ग्राम प्रधान ने अपने कार्यकाल में तालाब पर अवैध रूप से कब्जा कर बनवाया अपना मकान,प्रशासन दबंग प्रधान के सामने है मौन
चित्र
डायल 112 पीआरबी कर्मियों के द्वारा जंगल में हाथ पैर बांध कर फेंके गए युवक को बंधन से कराया मुक्त
चित्र