राहें तुम्हारी छोड़ करके,

 " एहमियत "



राहें तुम्हारी छोड़ करके, 


                    मुक्त तुमको कर दिया l


जो ढो रहे थे बोझ मन का, 

                    आज हल्का कर दिया l


साथ होकर सह रहे थे, 

                    वो दूरियों में भी सहे  l


लो आज मन गमगीन करके,                                                

               लौह हिय को कर लिया l


क्या करोगे बोझ ढोकर  ? 

                      स्नेह मन में जब नहीं l


ज़िंदगी की धूप में भी , 

                 ख़ुद को तपा उसने लिया l


मुस्कुराहट पे न जाओ, 

                  ये  मुस्कुराहट  दंभ है l


हर ग़म समेटे जी रहे वो , 

                ख़ुशहाल तुमको कर दिया l


क्लेश पाले थे जो मन का, 

                  परतंत्रता की बेड़ियों सम l


जी के देखो ज़िंदगी अब, 

                 क्या दूर तुमने कर दिया  ? 


बहुमुल्यता रिश्तों की क्या है  ? 

                   जान अब तक पाए न l


दूर कर ह्रदय से उसने, 

                  सुख सर्व तुमको दे दिया l





रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फ़तेहपुर