शहर के पीरनपुर में स्थित क्षतिग्रस्त पुलिया राहगीरों के लिए बन गई है काल

 शहर के पीरनपुर में स्थित क्षतिग्रस्त पुलिया राहगीरों के लिए बन गई है काल



आखिरकार किसकी चिता के चलने का संबंधित विभाग कर रहा है इंतजार


फतेहपुर। उत्तर प्रदेश के पूर्व उपमुख्यमंत्री ( लोक निर्माण विभाग मंत्री ) ने जनपद को कई सड़कों की सौगात दिया था और कहा था कि जनपद की सड़कों का जल्द से जल्द निर्माण कर चलने के योग्य बनाया जाए जिससे कि होने वाली घटित घटनाओं में कमी आ सके और राहगीर बिना किसी परेशानी के सड़कों पर चल सके किंतु उपमुख्यमंत्री के द्वारा जनपद को दी गई सौगात का पालन आज तक नहीं हो सका है और जनपद की क्षतिग्रस्त सड़को पर घटित होने वाली दुर्घटनाओ में कमी नहीं आ रही है जब जनपद की सड़कें क्षतिग्रस्त हो और चलने योग्य ही ना हो तो मजबूरी में राहगीरों को इन सड़कों पर चलना पड़ता है। जाहिर सी बात है कि राहगीरों का दुर्घटनाओं का शिकार होना तो आम सी बात है। हैरत की बात तो यह है कि 1 वर्ष पूर्व शहर के पीरनपुर में बन रही पुलिया का निर्माण कार्य शुरू हुआ था किंतु 1 वर्ष बीत जाने के बाद भी क्षतिग्रस्त पुलिया का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो सका और जो अब राहगीरों के लिए मौत का काल बन चुकी है आए दिन क्षतिग्रस्त पुलिया के पास राहगीर चोटहिल हो रहे हैं और कुछ तो अप्रिय घटना का शिकार भी हो चुके है किंतु कुंभकरणी नींद में सो रहे संबंधित विभाग के अधिकारी आखिरकार क्या किसी चिता के जलने का इंतजार कर रहे हैं। पीरनपुर मोहल्ले के निवासियों ने कहा कि 1 वर्ष पूर्व पुलिया का निर्माण कार्य शुरू हुआ था किंतु इतना लंबा समय बीत जाने के बाद भी आज तक पीरनपुर स्थित पुलिया का निर्माण पूर्ण नहीं हो सका है जबकि संबंधित अधिकारियों को यह बात पता है कि क्षतिग्रस्त पुलिया राहगीरों के लिए जानलेवा बन चुकी है फिर भी पुलिया का निर्माण कार्य अधूरा छोड़ दिया गया है।