प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बना शो पीस आए दिन नदारद रहते डॉक्टर

 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बना शो पीस आए दिन नदारद रहते डॉक्टर



डॉक्टरों की गैर हाजिरी से हो रही निरंतर पीड़ितों की मौत


मजबूरन प्रसव के लिए आई महिलाओं को सदर अस्पताल जाने के लिए होना पड़ता है मजबूरी


ललौली (फतेहपुर)।प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ललौली विकास खंड असोथर जनपद फतेहपुर जो कि तकरीबन 50000 आबादी वाला गांव है। ललौली में एक ही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है जहां पर पूरी सुविधाएं ध्वस्त है डॉक्टर जो है आते हफ्ते में 2  दिन ही आते है। 10:00 से 2:00 तक रुकते हैं चले जाते हैं।  गाँव मे अगर कोई बीमार हो जाए तो यहां पर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध ना होने के कारण उन्हें दर-दर भटकना पड़ता है वही डिलीवरी के लिए आई महिलाएं भी नर्स वार्ड डॉक्टर के न होने की वजह से परेशान होती हैं ।अंततः मजबूरन उन्हें सदर अस्पताल फतेहपुर की ओर रुख करना पड़ता है। 

अस्पताल में डॉक्टरों व संबंधित उपकरणों कोई  भी व्यवस्था नहीं है, सुविधा ना होने के कारण कितनी महिलाएं प्रसव के दौरान दम तोड़ देती है। 50,000 की आबादी वाला गांव है।

कोई भी व्यवस्था नहीं है लोग परेशान रहते है, क्या करें  गाँव वाले उपचार हेतु फतेहपुर जाने के लिए मजबूर  हैं। शासन प्रशासन की अनदेखी के कारण डॉक्टरों की अनुपस्थिति तेज परेशान पीड़ितों को दर बदर की ठोकरें खानी पड़ती है आखिरकार कब तक लोग उपचार हेतु फतेहपुर सदर अस्पताल के चक्कर काटेंगे। कब तक महिलाएं प्रसव के दौरान अपनी जान जोखिम में डालते रहेंगे। क्या अस्पताल में मौतों का सिलसिला डॉक्टरों के न होने की वजह से इसी तरह चलता रहेगा। जिम्मेदारों को ध्यान देना होगा ताकि अब किसी और का घर ना उजड़े किसी बच्चे से उसकी मां ने बिछड़े।