जब महापुरुष आते हैं, एक नाम को जगाकर प्रभु से जोड़ देते हैं; जयगुरुदेव नाम उस प्रभु से जुड़ा हुआ नाम है; मुसीबत में जब बोलोगे तुरंत होगी मदद

 जब महापुरुष आते हैं, एक नाम को जगाकर प्रभु से जोड़ देते हैं; जयगुरुदेव नाम उस प्रभु से जुड़ा हुआ नाम है; मुसीबत में जब बोलोगे तुरंत होगी मदद



मुसीबत आने का इंतजार मत करो, आज से ही जयगुरुदेव नाम ध्वनि बोल कर फायदा उठाना शुरू कर दो, मुसीबत बगल से निकल जाएगी


रतलाम (मध्य प्रदेश)।इस समय के पूरे समर्थ सन्त सतगुरु, आला फ़क़ीर, पहुंचे हुए महात्मा, प्रकट सन्त, सभी जीवों के उद्धार का उपाय बताने वाले, संकट में मददगार, दुःखहर्ता उज्जैन वाले बाबा उमाकान्त जी ने 12 अप्रैल 2022 को रतलाम (म.प्र.) में दिए व यूट्यूब चैनल जयगुरुदेवयूकेएम पर प्रसारित संदेश में बताया कि नाम कैसे जगाया जाता है, आपको नहीं मालूम है। आप उस परमात्मा से बहुत पतले तार के द्वारा जुड़े हुए हो। तार टूट जाता है तो धड़ाम से गिर जाते हो। तार उधर से हिलता-डुलता है तो बेचैनी,घबराहट हो जाती है, लगता है जैसे अभी प्राण निकल जाएंगे।


*छींक-हिचकी आने पर माताएं कहती है शतंजी यानी 100 साल जियो, कहीं उस प्रभु से तार न टूट जाए की बच्चा खत्म हो जाये*


छींक-हिचकी आते समय संबंध टूटता है, तार हिलता है, कमजोर पड़ता है। बच्चे छींकते हैं तो माताएं कहती हैं शतंजी यानी 100 साल जियो। ऐसा न हो कि छींक के बाद संबंध खत्म हो जाए। छींक या हिचकी आई, तार जुड़ नहीं पाया तो खत्म, समझ लो चले गए। तार जुड़ा हुआ रहता है। उस तार से (आप सब मालिक से) जुड़े हुए हो।


*जब महापुरुष आते हैं तब एक नाम को जगा कर के प्रभु से जोड़ देते हैं*


उस नाम से जो जहाँ जिसको जरूरत होती है, वह उस नाम से पुकारता है तो प्रभु देखता है। जैसे चार आदमी यहां बैठे हो। चारों का नाम अलग-अलग है। जिस नाम से जिसको पुकारोगे वह आपकी तरफ देखेगा। भाई साहब, अरे भाई आदि कहोगे तब नहीं देखेगा। नाम बोलोगे, तुरंत देखेगा। ऐसे ही प्रभु के जगाए हुए नाम को जब पुकारते हैं तो वह मददगार हो जाता है। यह जयगुरुदेव नाम मुसीबत में मददगार है।


*मुसीबत आने का इंतजार मत करो, आज से ही जयगुरुदेव नाम ध्वनि बोल कर फायदा उठाना शुरू कर दो, मुसीबत बगल से निकल जाएगी*


कभी भी कोई भी मुसीबत में पड़ जाए, श्रद्धा प्रेम भाव से जयगुरुदेव बोलेगा तो उसकी मदद होगी। बहुत से लोगों ने परीक्षा लेकर देखा। आप भी परीक्षा ले कर देख सकते हो। हम तो यह चाहते हैं कि आपको आज से ही लाभ मिलने लग जाए, मुसीबत आए ही नहीं। जब मुसीबत आएगी तब उस समय पर काम करोगे तो कहते हैं जब आग लग गई तो कुआं खोदने से क्या मतलब। मुसीबत से बचने के लिए, मुसीबत खत्म करने के लिए आज से ही जयगुरुदेव नाम बोलना शुरू कर दो। जयगुरुदेव नाम की ध्वनि बच्चे-बच्चियों, बुलवाना शुरू कर दो।


*लोगों को नींद नहीं आती थी, नाम ध्वनि बोलते-बोलते ही सो जाते हैं, कहते हैं बहुत शांति मिल रही है*


मैंने बताया जब से और परिवार वालों को इकट्ठा करके सुबह-शाम जयगुरुदेव नाम की ध्वनि बोलना, बुलवाना शुरू कर दिए तब से लोगों को

बहुत फायदा दिखाई पड़ रहा है। बीमारियों में कमी, लड़ाई-झगड़ा में कमी, पैसे में भी बरकत, मानसिक शांति मिलने लगी, नींद नही आती थी, जागते-सोचते रहते थे, जयगुरुदेव नाम की ध्वनि बोलने लगे। वह बोलते-बोलते ही सो जाते हैं, बहुत फायदा। आप करके देख लो, करके देख लो।


*आपसे निजी स्वार्थ नहीं है, आप हमको याद करोगे तो हम तो आपको बराबर याद करेंगे*


हमारा आपसे कोई निजी स्वार्थ नहीं है। आपका-हमारा रिश्ता तो अंदर से हो रहा है, दिखावे का नहीं है कि जैसे लड़के-लड़की की शादी करके रिश्तेदारी निभाते हैं। आप याद करोगे तो हम तो आपको बराबर याद करते रहेंगे, लेकिन ऐसे नहीं जैसे रिश्तेदारी दुनियादारी की होती है। मैं तो आपको बता कर के जा रहा हूं। आप करके देखो। नाम ध्वनि कैसे बोलना है, सब लोग सीख लो- जयगुरुदेव जयगुरुदेव जयगुरुदेव जयजय गुरुदेव

Popular posts
प्रेम प्रसंग के चलते हुई हत्या परिजनों ने जताई आसंका
चित्र
आकांक्षा साहू का इलाहाबाद उच्च न्यायालय अपर समीक्षा अधिकारी ए.आर.ओ. के पद पर हुआ चयन
चित्र
राजस्थान प्रदेश के जनपद जालौर में मासूम दलित छात्र की हत्या के संबंध में भीम आर्मी मंडल अध्यक्ष ने जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन
चित्र
मुख्य विकास अधिकारी की अध्यक्षता में जन सुविधा केंद्र के संचालन हेतु मुद्रा लोन दिए जाने के संबंध में उचित दर विक्रेताओं के साथ बैठक संपन्न
चित्र
बेखौफ बदमाशों ने ई-कार्ड कोरियर आफिस में तमंचे के बल पर लूटे 18 लाख 81 हजार
चित्र