पूर्व मंत्री तथा क्षेत्रीय विधायक ने अमर शहीदों को किया श्रद्धा सुमन

 पूर्व मंत्री तथा क्षेत्रीय विधायक ने अमर शहीदों को किया श्रद्धा सुमन



28 अप्रैल को अमर शहीद जोधा सिंह अटैया सहित 52 शहीदों को अंग्रेजों ने इमली के पेड़ में फांसी के फंदे पर लटकाया गया था


बिंदकी फतेहपुर।बावन इमली शहीद स्मारक में पूर्व मंत्री तथा क्षेत्रीय विधायक राजेंद्र सिंह पटेल तथा उप जिलाधिकारी अवधेश कुमार निगम समेत कई लोगों ने अमर शहीद जोधा सिंह अटईया सहित बावन अमर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित किया।

गुरुवार को बिंदकी खजुहा रोड स्थित बावन इमली शहीद स्मारक में पूर्व मंत्री तथा भारतीय जनता पार्टी के जहानाबाद विधानसभा क्षेत्र के विधायक राजेंद्र सिंह पटेल पहुंचे और अमर शहीद जोधा सिंह अटैया सहीत 52 अमर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित किया इस मौके पर पूर्व मंत्री तथा विधायक राजेंद्र सिंह पटेल ने कहा देश की आजादी के लिए अमर शहीदों ने अपनी जान की कुर्बानी दी थी जब तक सूरज चांद रहेगा देश उन्हें याद रखेगा देश के लोग हमेशा अमर शहीदों के रेडी रहेंगे जिन्होंने अपनी जान बाजी में लगाकर अंग्रेजों की गुलामी से देश को आजाद कराने का काम किया था आज हम अपने भारत देश में स्वतंत्र रूप से रह कर अपने अधिकारों के तहत काम कर रहे हैं इस मौके पर उप जिला अधिकारी अवधेश कुमार निगम ने भी श्रद्धा सुमन अर्पित किए और कहा कि निश्चित रूप से अमर शहीदों का योगदान कभी भी भुलाया नहीं जा सकता है बताते चलें कि 28 अप्रैल 1858 को कर्नल क्रिस्टाइज की घुड़सवार सेना द्वारा देश की आजादी के लिए लड़ने वाले जोधा सिंह अटईया तथा उनके 51 क्रांतिकारी साथियों कुल 52 लोगों को बंदी बना लिया था और इमली के पेड़ में फांसी के फंदे पर लटका दिया था जिसके चलते बावनी इमली शहीद स्मारक नाम पड़ा। इस मौके पर फॉरेस्ट रेंजर रामसुख सिंह पटेल अधिवक्ता अरुण द्विवेदी विभव सिंह विपुल सिंह पटेल बबलू शर्मा के अलावा अमर शहीद जोधा सिंह सिंह आटईया के वंशज चंद्रपाल सिंह आशुतोष अग्निहोत्री कालिका शुक्ला आदि लोग मौजूद रहे।