हम वफ़ा के नाम से ,

 "वफ़ा"

हम वफ़ा के नाम से , 


            ख़ुद को मिटाते ही गये  । 

वो वफ़ा के नाम से, 

             करते छलावा ही रहे । 

कौन कहता है ? वफ़ा में, 

              टीस ही मिलती सदा,

संग टीस गह्वरता सतत् ,

              सिन्धु में हम तो जा मिले। 

ज़िन्दगी इक चाह है ,

                ज़िन्दादिली से जी सकूँ। 

मौत में भी जि़न्दगी को ,

                 ढ़ूंढ़ हम जीते रहे। 

देख करके भीड़ तुमने, 

                  राह परिवर्तित किया। 

पर वफ़ा के नाम हमको, 

                     याद तुम करते रहे । 

क्या ख़ता हमने किया , 

                       याद करना तुम ज़रा। 

 जोड़ कर ह्रदय का रिश्ता, 

                        स्नेह अन्तर्तम् किया।

पड़ के भौतिकता में तुमने, 

                      दूर सात्विकता किया। 

ले के सात्विकता को हम, 

                       हर तपन सहते रहे  । 

तुम बदल करके समय सम्, 

                 रुख पवन सम्मुख किया  । 

हम वफ़ की डोर पकड़े, 

                   कञ्टक चुभन सहते रहे। 

तुम चतुरता ओढ़ चादर, 

                   ज़िन्दगी सुखमय किया। 

हम वफ़ा लेकरके दामन, 

                     अति ठोकरें खाते रहे  । 

संग टीस गह्वरता सतत्, 

                  सिन्धु में हम तो जा मिले। 




रश्मि पाण्डेय 

बिन्दकी ,फतेहपुर


                      




                         


                    


🕉️🕉️