कई पीढ़ियों ने गांजे के कारोबार में जुटे परिवार के सदस्य के आगे सब कुछ फेल

 कई पीढ़ियों ने गांजे के कारोबार में जुटे परिवार के सदस्य के आगे सब कुछ फेल



हर महीने खप जाता है सरकारी भांग की दुकानों में लाखों का गांजा


वर्मा चौराहा, बकंधा, राधानगर, लक्षणमनपुर, चुरियानी और भिटौरा में बिकता है गांजा


50 से 100 रुपये में बिक रहा मौत का सामान


फतेहपुर। सदर कोतवाली क्षेत्र के वर्मा चौराहा, बकंधा, राधानगर, लक्षणमनपुर, चुरियानी और भिटौरा की सरकारी भांग की दुकानों में हर महीने लाखों का गांजा खपा दिया जाता है, और जिले की पुलिस को कानो कान भनक तक नहीं लगती है, सूत्रों की माने तो इन सरकारी भांग की दुकानों का संचालन उसी एक परिवार से ताल्लुक रखने वाला सदस्य कर रहा है, जिसकी गांजे के कारोबार में जिले में सिक्का चलता है, और उस सख्स ने कुछ ऐसा सिस्टम बना रखा है जिसको पुलिस विभाग की पल-पल की खबर मिलती रहती है, और जब पुलिस की सख्ती होती है तो दुकानों से गांजे की पुड़िया तुरंत हटा दी जाती है, सूत्रों की माने तो लेकिन मोटी रकम देकर आवंटित हुई इन दुकानों से अगर गांजे की बिक्री ना की जाए तो उनका शटर पूरी तरह से डाउन हो जाएगा, क्यों कि भांग की ब्रिकी तो ना के बराबर होती है, और शायद इन दुकानों को लाटरी  के जरिए हासिल करने वाले ठेकेदार भी इन दुकानों में इसी लिए रुचि भी दिखाते है, क्यों की उनको पता है कि अगर एक दुकान से महीने भर के भीतर लाखों का गांजा एक झटके में सप्लाई हो जाता है, और तो और पहले तो सब सेट होता है, लेकिन किसी कारण वश अगर पुलिस सख्ती हुई तो सेल्समैन को बलि का बकरा बनाकर ठेकेदार अपना पल्ला झाड़ लेते है, फतेहपुर की वर्मा चौराहा, बकंधा और राधानगर, लक्षणमनपुर, चुरियानी और भिटौरा की दुकानों में ऐसी ही सेटिंग के जरिए भांग ठेकेदार अवैध काम को अंजाम देने में जुटे है।

Popular posts
खेत जा रही देवरानी जेठानी को दबंग परिजनों ने पीटकर किया लहूलुहान
चित्र
ओम घाट में डूबती महिला को पीएसी जवान ने बचाया
चित्र
नगरी निकाय सामान्य निर्वाचन 2022 सहित तैयार कर आने जाने वाली मतदाता सूची के संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
आकाशीय बिजली गिरने से पेट्रोल पंप में हुआ भारी नुकसान
चित्र
नवागंतुक मुख्य विकास अधिकारी ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद विकास भवन के कार्यालय में जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय, सहकारिता कार्यालय, आरईएस, जल शक्ति कार्यालय आदि कार्यालयों का किया औचक निरीक्षण
चित्र