राष्ट्रीय महिला दिवस पर ज्योति बाबा ने लैंगिक समानता हेतु उठाई आवाज

 राष्ट्रीय महिला दिवस पर ज्योति बाबा ने लैंगिक समानता हेतु उठाई आवाज 



सरोजनी नायडू द्वारा किए गए आदितीय योगदान का जश्न है राष्ट्रीय महिला दिवस...ज्योति बाबा 


समाज से नशे की कुरीति को दूर करने की प्रेरणा पुंज बना राष्ट्रीय महिला दिवस...ज्योति बाबा 


कानपुर। राष्ट्रीय महिला दिवस 2023 समारोह सरोजनी नायडू को उन महिलाओं के लिए एक प्रेरणा के रूप में स्थापित करने का प्रयास करेगा जो राष्ट्र का नेतृत्व करने और अपने समुदायों में बदलाव लाने की इच्छा रखती हैं उपरोक्त बात नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के तहत सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में वरदान फाउंडेशन व नमो-नमो क्रांति फाउंडेशन के सहयोग से राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित ई- संगोष्ठी शीर्षक सरोजिनी नायडू की जयंती पर मनाए जा रहे राष्ट्रीय महिला दिवस,उनके जीवन से भी बड़ी भव्यता का जश्न पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख,नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के नेशनल ब्रांड अंबेसडर श्री श्री ज्योति बाबा ने कही,श्री श्री ज्योति बाबा ने आगे कहा कि राष्ट्रीय महिला दिवस पितृसत्तात्मक भारतीय समाज में महिलाओं के अधिकारों की स्थापना के लिए सरोजिनी नायडू द्वारा किए गए आदितीय योगदान का जश्न मनाता है यह दिन लैंगिक समानता को प्रोत्साहित करने का प्रयास करता है मिडास परिवार के प्रमुख उपेंद्र मिश्रा ने कहा कि राजनीति के अलावा सरोजिनी नायडू को विश्व स्तर पर भारतीय साहित्य के इतिहास की बेहतरीन  कवियत्रीयों में से एक माना जाता है इसीलिए उनके उत्कृष्ट कार्यों से देश की महिलाओं को प्रेरित करने के उद्देश्य राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में पूरे देश में विभिन्न कार्यक्रमों के द्वारा मनाया जाता है। राष्ट्रीय भागवताचार्य सुमित शास्त्री एवं वरदान फाउंडेशन के कृष्णा शर्मा ने संयुक्त रूप से कहा कि सरोजिनी नायडू की काव्य रचनाओं में देशभक्ति,त्रासदी,रोमांस आदि विषयों का एक स्पेक्ट्रम शामिल है,यज्ञ कांत शुक्ला व शैलेंद्र पांडे हिंदू ने कहा की राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को उनके जीवन के सभी पहलुओं में स्वीकार करने और हम सबके जमीनी प्रयासों से उनका सम्मान करने की प्रथा निरंतर बढ़ती रहनी चाहिए। संगोष्ठी में प्रमुख मातृ शक्ति प्रदेश उपाध्यक्ष अंजु सिंह, मानवाधिकारवादी गीता पाल,इकबाल कौर,राखी विज, क्षमा दीक्षित,गीतांजलि पांडे,प्रीति सोनकर,विमला त्रिपाठी, सुमन सक्सेना,कविता त्रिपाठी, अनीता सिंह, विभा राज दुबे इत्यादि थी,अंत में श्री श्री ज्योति बाबा ने सभी को मातृशक्ति के सम्मान बढ़ाने वाले कार्य करने व नशा मुक्त भारत बनाने का संकल्प कराया।

टिप्पणियाँ
Popular posts
सरकारी जमीन पर मस्जिद निर्माण से तनाव, हिंदू संगठनों ने की महापंचायत
चित्र
सिर्फ इन लोगों को मुफ्त बिजली देगी सरकार, जानिए कैसे मिलेगा इसका लाभ
चित्र
असोथर बैंक के स्थापना दिवस पर संगोष्ठी एवं ग्राहक अभिनंदन के साथ किया गया वृक्षारोपण
चित्र
दुकानों में नेम प्लेट लगाने वाले आदेश पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोक लगाने पर राहुल प्रधान की प्रतिक्रिया
चित्र
दिवंगत शिक्षामित्रों की स्मृति में श्रद्धांजलि सभा 25 जुलाई को
चित्र